0

भारी बारिश से पटना और पूरे राज्य में उत्पन्न स्थिति से निबटने के लिए सरकार ने चौतरफा कदम उठाया है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार जल संसाधन मंत्री संजय झा और मुख्य सचिव दीपक कुमार के साथ पटना और आसपास के हालात का आकलन किया. साथ ही उन्होंने बक्सर, आरा, रोहतास, नालंदा, नवादा, भागलपुर, कटिहार, खगड़िया, जहानाबाद, अरवल, बेगूसराय, मुंगेर, समस्तीपुर, दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी, शिवहर जिले के डीएम से उनके जिलों में बारिश की स्थिति की समीक्षा की.

मुख्यमंत्री ने जलजमाव, नदियों के जलस्तर की स्थिति, तटबंधों की निगरानी, नावों की व्यवस्था, दवा की उपलब्धता, रिलीफ कैंप, चलाये जा रहे कम्युनिटी किचेन समेत अन्य तैयारियों के बारे में भी जानकारी ली और जरूरी निर्देश दिये. मौसम विभाग ने बांका, भागलपुर, अररिया, किशनगंज और पूर्णिया में सामान्य से अधिक वर्षा होने की आशंका जताते हुए सतर्क रहने को कहा है. सरकार के निर्देश पर पटना में सेना के दो हेलीकाप्टर बुलाये गये.

तो वहीं प्रभावित इलाकों में ट्रैक्टर से भी राशन पहुंचाया जा रहा है. अब तक दो लाख लीटर पानी लोगों तक पहुंचाया जा चुका है. पानी निकलने के बाद संभावित बीमारी के खतरों को देखते हुए मंगलवार से मेडिकल टीम सभी प्रभावित इलाकों में जायेगी.

सोमवार को कुछ इलाकों में हेलीकाप्टर से फुड पैकेट राजेंद्र नगर इलाके में गिराये गये. सेना के हेलीकाप्टर एमआइ-17 मंगलवार की सुबह पांच बजे से ही राजधानी के विभिन्न इलाकों मेें राहत कार्य व खाद्य सामग्री बाटी जायेगी. केंद्रीय कानून मंत्री और पटना साहिब के सांसद रविशंकर प्रसाद भी जलमग्न इलाकों का दौरा किया. उन्होंने बताया कि कोल इंडिया के दो संप को पटना लाने का निर्देश दिया है. देर शाम चली सीएम की समीक्षा बैठक के बाद मुख्य सचिव दीपक कुमार ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि राजेंद्र नगर इलाके में मंगलवार के बाद से बिजली कनेक्शन मुहैया करायी जायेगी. जबकि, कंकड़बाग इलाके में बिजली कनेक्शन उपलब्ध कराने के प्रयास देर शाम से शुरू कर दिये गये हैं. उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर राजधानी से पानी निकालने के लिए सारे संप को चौबीस घंटे चालू रखा गया है. विलासपुर से आ रहे कोल इंडिया के संप के मंगलवार की सुबह तक पटना पहुंचने की संभावना है. उन्होंने भरोसा दिलाया कि सब कुछ ठीक रहा तो अगले दो से तीन दिनों में शहर से भारी मात्रा में पानी निकल जायेगा.

तीन दिनों में पटना में हुई 342.5 मीमी वर्षा

समीक्षा में बताया गया कि पटना में पिछले तीन दिनों के दौरान 342.5 मीमी वर्षा हुई है. जबकि समस्तीपुर में 400 मिमी वर्षा हुई है. अगले 24 घंटे में छह जिलों पूर्णिया, कटिहार, किशनगंज, अररिया, भागलपुर और बांका में सामान्य से अधिक बारिश का अनुमान है. जबकि कुछ इलाकों में सामान्य वर्षा होगी और उसके बाद स्थिति सामान्य हो जायेगी.

पटना डीएम से ली खास खासतौर से जानकारी

सीएम ने पटना डीएम कुमार रवि से खासतौर से जलजमाव और राहत कार्यों की जानकारी ली. डीएम ने राजेन्द्र नगर, कंकड़बाग, भूतनाथ रोड, कांटी फैक्ट्री रोड, मलाही पकड़ी, एसके पुरी क्षेत्र में ज्यादा जलजमाव की जानकारी दी. डीएम ने कहा, लोगों तक राहत पहुंचाने के लिए आधा लीटर दूध पैकेट समेत पानी का बोतल समेत अन्य चीजें दी जा रही हैं. एयर ड्रॉप के माध्यम से राजेन्द्र नगर के पश्चिमी इलाके और अन्य क्षेत्रों में फूड पैकेट समेत अन्य सामग्री पहुंचायी जा रही है. राजेन्द्र नगर इलाके से पानी की निकासी पहाड़ी से होता है. वहां पहले से 198 एचपी का मशीन काम कर रहा है. 575 एचपी का डीजल मशीन अतिरिक्त लगाया गया है.

बारिश से पटना समेत 15 जिलों में 16,50 लाख की आबादी प्रभावित

आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक पटना समेत राज्य के 15 जिलों में बाढ़ और जल जमाव से 16,50 लाख की आबादी प्रभावित है. 95 प्रखंड की 464 पंचायत के 758 गांवों की जनसंख्या प्रभावित हुई है. इनकी सहायता के लिए 17 राहत शिविर , 226 सामुदायिक रसोई, 1153 नाव और 18 एनडीआरएफ, एसडीआरएफ को काम में लगाया गया है. वहीं, इस दौरान अत्याधिक वर्षा के कारण 22 लोगों की मौत हुई है. तीन लोगों के घायल होने की सूचना है. पटना के जल जमाव वाले क्षेत्रों में वायुसेना के हेलीकॉप्टर से फूड पैकेट गिराये गये हैं. फूड पैकेट में दवा, चुड़ा, गुड़, मोमबत्ती, दीया और सलाई, पानी का बोतल और आलू डाला गया है.बारिश से पटना, भोजपुर, भागलपुर, नवादा, नालंदा, खगड़िया, समस्तीपुर, लखीसराय, बेगूसराय, वैशाली, बक्सर, कटिहार, जहानाबाद, अरवल, दरभंगा जिले मुख्य रूप से प्रभावित हुए हैं. जिला प्रशासन एवं एसडीआरएफ, एनडीआरएफ टीम के माध्यम से प्रभावित जनसंख्या को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है.

पटना में एनडीआरएफ की छह टीम, जिसमें 225 जवान शामिल हैं और एसडीआरएफ की दो टीम , जिसमें 81 जवान शमिल हैं. 49 मोटरवोट से लोगों को निकाला जा रहा है. जिला प्रशासन के द्वारा पेयजल, फूड पैकेट एवं दूध पैकेट का वितरण कराया गया और सामुदायिक रसोई आठ जगहों पर शुरू कराया गया है.

जलजमाव के चलते  बच्चों की सुरक्षा को लेकर जल जमाव से प्रभावित प्राथमिक एवं मध्य सरकारी स्कूलों में गांधी जयंती(2 अक्तूबर ) के अवसर पर प्रस्तावित सभी कार्यक्रम मसलन गांधी कथा वाचन और जल-जीवन-हरियाली व अन्य गतिविधियां स्थगित कर दी गयी हैं.
बढ़ेगा गंगा का जल स्तर

आशंका जताई जा रही है कि भागलपुर में गंगा नदी के जलस्तर में आज दोपहर तक 14 सेमी बढ़ोतरी हो सकती है. इसके अलावा  साहेबगंज में सात सेमी, कहलगांव में 20 सेमी और मुंगेर में नौ सेमी बढ़ने की संभावना जताई गई है. साथ ही बिहार के पटना, मुजफ्फरपुर, सुपौल, अररिया, बांका, भागलपुर, सहरसा, अररिया, मधेपुरा, भोजपुर, जहानाबाद, अरवल, नालंदा, शेखपुरा, बेगूसराय, लखीसराय, कटिहार, मुंगेर, खगड़िया और शिवहर में लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी गई है.

The Sky is Pink: प्रियंका चोपड़ा ने ऑनस्क्रीन बेटे रोहित संग खेला डांडिया, Video वायरल

Next article

You may also like

More in National

Comments

Comments are closed.