Bollywood/FashionTop Stories

जानिए आखिर क्यों और कैसे किया जाता है इंबामिंग, क्यों श्रीदेवी के पार्थिव शरीर का कराया गया?

0

दुबई के सरकारी वकील से अनुमति मिलने के बाद अभिनेत्री श्रीदेवी के पार्थिव शरीर को मुंबई लाने कि प्रक्रिया शुरू कर दी गई. लेकिन इसके पहले उनके पार्थिव शरीर की इंबामिंग कि गई, जिसमे करीब एक घंटे का वक़्त लगा. फिर शव को ताबूत में रखकर परिवार के हवाले कर दिया गया.

अभिनेत्री श्रीदेवी के निधन के बाद से ही बार बार ये शब्द सामने आ रहा था कि भारत उनके पार्थिव शरीर को ले जाने से पहले उसकी इंबामिंग कि जायेगी. इसके बाद से ही लोग ये जानने के लिए उत्सुक थे कि आखिर ये पूरी प्रक्रिया होती कैसे है. अब आपको ये बताते हैं कि आखिर ये इंबामिंग क्या है और कैसे-कैसे किया जाता है.

इंबामिंग विज्ञान कि भाषा है जिसका मतलब होता है मृत शरीर को संरक्षित करने की एक प्रक्रिया. इंबामिंग के बाद मृत शरीर विघटित यानी डिकंपोज नहीं होता है. इस प्रक्रिया के बाद मृत शरीर को कई घंटे तक रखा जा सकता है. इस तरह इंबामिंग के ज़रिये कई सालों शवों को सुरक्षित रखने का काम किया जा रहा है.

डॉक्टरों कि मानें तो, मरने के बाद इंसान के शरीर से रक्त और गैस पूरी तरह से निकल जाता है. ऐसे में शवों को इसी तरह छोड़ने से उसमे सड़न पैदा होने लगती है. शव खराब न हो इसी लिए इंबामिंग प्रक्रिया के दौरान शवों में एक तरल पदार्थ को डाला जाता है जिससे शवों के डिकंपोज होने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है.

कैसे होती है इंबामिंग

इंबामिंग दो तरह से की जाती है पहला आर्टेरियल और दूसरा कैविटी. पहली आर्टेलियल प्रक्रिया में शवों में रक्त की जगह तरल पदार्थ डाला जाता है जबकि कैविटी में पेट और छाती से पानी निकाल कर उसमें कुछ भरा जाता है.

लेकिन इंबामिंग को करने से पहले शव को डिसइंफेक्टेंट करना बेहद ज़रूरी होता है. इसके लिए कई बार शवों को एक ख़ास तरल से से धोया जाता है फिर उसे साफ़ कर एक ख़ास पादर्थ से शरीर पर मालिश की जाती है ताकि शरीर शख्त न हो जाए.

आर्टेलिय इंबामिंग में नसों से खून को निकलकर उसमे एक विशेष तरल पदार्थ भर दिया जाता है. यह विशेष तरल फॉर्मलडिहाइड, ग्लुटार्लडिहाइड, मेथानॉल, इथेनॉल, फिनॉल और पानी का मिश्रण होता है.

तो वहीँ कैविटी इंबामिंग में शवों के छाती और पेट के अंदर के प्राकृतिक तरल पदार्थों को एक छोटे चीरा के माध्यम से निकाल दिया जाता है. इसके जगह पर इंबामिंग में प्रयोग होने वाले पदार्थ को डाल दिया जाता है और चीरा को बंद कर दिया जाता है.

Rahul Pandey

लेप लगाने की प्रक्रिया पूरी हुई, श्रीदेवी का पार्थिव शरीर एयरपोर्ट पहुंचा

Previous article

एक तरफ़ा प्यार की सनक में युवक ने खुद को मारी गोली

Next article

Comments

Comments are closed.

Close Bitnami banner
Bitnami