आतंक पर आस्था भारी, आज अमरनाथ के लिए बेस कैंप से फिर रवाना हुए 3000 श्रद्धालु

जम्मू-कश्मीर में बाबा बर्फानी के दर्शन करने गए श्रद्धालुओं पर आतंकियों ने हमला कर दिया. सोमवार रात करीब 8.20 बजे बाइक सवार 2 आतंकियों ने बस पर गोलीबारी की, इसमें 7 लोगों की मौत हो गई. वहीं 19 श्रद्धालु घायल भी हो गए. यह हमला अनंतनाग के बटेंगू क्षेत्र में हुआ. मृतकों में 5 महिलाएं शामिल हैं. श्रद्धालुओं पर इस हमले के बाद पूरे देश में गुस्सा है, पीएम मोदी ने भी इस हमले की कड़ी निंदा की है. लेकिन आतंकियों की इस कायरना हरकत के बाद भी अन्य श्रद्धालुओं की आस्था पर कोई फर्क नहीं पड़ा है, मंगलवार को अमरनाथ यात्रा के लिए अगला जत्था रवाना हो गया है.
मंगलवार को जम्मू बेस कैंप से सुबह करीब 3.15 बजे पहलगाम के रुट से रवाना हो गए हैं. इस जत्थे में 2389 श्रद्धालु जाएंगे, जिसमें 1529 पुरुष और 537 महिलाएं हैं. वहीं जत्थे में 250 साधु भी हैं. वहीं बलताल से रुट से 973 यात्री जिसमं 754 पुरुष और 219 महिलाएं श्रद्धालु निकलेंगे. मंगलवार को कुल 3289 यात्री पवित्र गुफा के दर्शन के लिए निकले. इस दौरान कुल 105 छोटे-बड़े वाहन इन्हें ले जाएंगे.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि शांतिपूर्ण अमरनाथ यात्रियों पर कायरतापूर्ण हमले पर दुख जताने के लिए शब्द नहीं हैं. उन्होंने कहा कि भारत ऐसे कायरतापूर्ण हमलों और घृणा के नापाक मंसूबों के आगे झुकने वाला नहीं है. पीएम ने जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एन एन वोहरा और मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से बात की और हरसंभव मदद का आश्वासन दिया. वहीं इस हमले के बाद कश्मीर घाटी में एक बार फिर इंटरनेट सेवा बैन कर दिया गया है.
हमले के वक्त बस में मौजूद योगेश प्रजापति ने एक्सक्लूसिव बातचीत में बताया कि बस के दाहिने तरफ से हमला किया गया और उस तरफ काफी अंधेरा था. प्रजापित ने बताया कि जैसे ही हमला हुआ ड्राइवर ने बस वहां से तेज कर ली और काफी आगे जाकर एक चौक पर बस रोकी.
अमरनाथ श्रदालुओं पर हुए हमले पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी , सीताराम येचुरी, गुलाम नबी आजाद के साथ तमाम राजनीतिक दलों के लोगों ने शोक जताया है. कांग्रेस ने आतंकियों के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई की मांग की है. सियासी लोगों के अलावा फिल्मी सितारों और खिलाड़ियों ने भी ट्वीट कर शोक जताया है.

Close Bitnami banner
Bitnami