खतरे में थी जान नौसेना बनी रक्षक !

मुंबई से पश्चिम में 40 नॉटिकल माइल्स दूर गहरे समंदर में डूब रहे 4 लोगों को नौसेना ने बचा लिया। सभी को  नौसेना के सीकिंग हेलीकॉप्टर के जरिये कल देर रात रेस्क्यू किया गया। जानकारी के मुताबिक़ “सोनिका” नाम की एक टगबोट में चार लोग सवार थे तभी उनकी बोट समंदर में पत्थरों के बीच फंस गई थी। कई कोशिश के बाद भी जब वो निकल पाए तब जाकर नौसेना ने उन्हें एयरलिफ्ट किया।

नौसेना अधिकारी के मुताबिक़, मुंबई पुलिस ने उनसे मदद मांगी थी उसके बाद ये पूरा ऑपरेशन शुरू हुआ और असभ्य को सकुशल निकल लिया गया।

मुंबई के करीब समुद्र में फंसी टगबोट के चालक दल के चार सदस्यों को नौसेना ने बचाया

सोमवार रात को मुंबई पुलिस कंट्रोल रूम को बोत में फंसे लोगों के मदद के लिए कॉल आया था। उन्हें बताया गया था की मालाबार हिल स्तिथ राजभवन के पास गहरे समंदर में पत्थरों के बीच टगबोट फंस गई है। ये वही जगह है जहाँ शिवाजी की प्रतिमा बनाई जाने की योजना है। पुलिस कवेंट्रोल रूम ने सबसे पहले माहिम से अपनी कोस्टल पैट्रोलिंग टीम को मौके पर रवाना किया। लेकिन घुप अँधेरा और थपेड़ों के बीच पत्थरों में फंसे टगबोट तक पहुंचना मुश्किल था।

tugboat operation

पुलिस के मुताबिक़ ,कोस्टल पैट्रोलिंग टीम माहिम से रात सवा नौ बजे तक घटनास्थल पर पहुंच गया था लेकिन चट्टानों और उथले पानी के कारण नौका तक पहुंच नहीं सका।उसके बाद ही मदद के लिए भारतीय नौसेना से संपर्क किया गया। जिसके बाद फंसे हुए लोगों को बचाने के लिए रात लगभग 11 बजकर 20 मिनट पर नौसेना का सीकिंग सी हेलीकॉप्टर को गोताखोरों के साथ रवाना किया गया। जिसके बाद हेलीकॉप्टर ने चारों फंसे हुए लोगों को एयरलिफ्ट करके बाहर निकला और रात 11 बजकर 45 मिनट तक वापस लौट आया।


Close Bitnami banner
Bitnami