ऐसे ले रही है एक बेटी अपने पिता के मौत का बदला

महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के कद्दावर नेता आर आर पाटिल सभी को याद होंगे। राज्य में जिनकी पहचान एक साफ़ सुथरी छवि वाले नेता के तौर पर थी। आर आर पाटिल का दो साल पहले निधन हो गया था। पाटिल कैंसर की बिमारी से ग्रसित थे। इस जानलेवा बिमारी का नाम सुनते ही अच्छे अच्छों का पसीना छूट जाता है। लेकिन महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री ने कभी भी इस बिमारी को गंभीरता से नहीं लिया था। कैंसर की वजह से आर आर पाटिल के मौत के बाद उनकी बेटी स्मिता पाटिल एक नया कैंपेन चला रही है।

स्मिता पाटिल जो कैंपेन चला रही है वो कई राजनीति से प्रेरित नहीं है. बल्कि लोगों को जागरूक करने के लिए यह कैंपेन चला रही है। मुंह के कैंसर की वजह से उनकी स्मिता पाटिल के पिता आर आर पाटिल का निधन हुआ था। इस लिए वो पुरे महाराष्ट्र में एंटी तंबाकू कैम्पेन शुरू किया है और महाराष्ट्र के कॉलेजों में घूम घूम कर विद्यार्थियों को तम्बाकू और नशे के हानिकारक प्रभाव के बारे में बता रही है। अब तक वे 30 से ज्यादा कॉलेजों में जाकर स्टूडेंट्स को इसके हानिकारक प्रभावों की जानकारी दे चुकी हैं।  इस कैम्पेन में वे 16 से 25 साल के स्टूडेंट्स को जागरूक करने का काम कर रही है।

स्मिता पाटिल इस कैंपेन के जरिये सिर्फ तंबाकू ही नहीं शराब, सिगरेट और अन्य नशीले पदार्थों से दूरे रहने की सीख युवाओं को दे रही है। इसमें उन्हें शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले का भी समर्थन प्राप्त है।


Close Bitnami banner
Bitnami