बच्ची के साथ बर्बरता पहले पीटा फिर पिलाई उल्टी

मुंबई के एक शेल्टर होम से दिल दहला देने वाली खबर आयी है। एक बच्ची की न सिर्फ बेहरहमी से पिटाई की गयी बल्कि उसे जबरन उलटी तक पिलाई गई। उसका सिर्फ इतना क़ुसूर था की 8 साल की मासूम ने टॉयलेट में थोड़ा ज़्यादा वक़्त लगा दिया था। 

ये घटना मुंबई की मनखुर्द इलाक़े के एक चाइल्ड शेल्टर होम  की है। जहाँ कई सारे बच्चों को देख रेख के लिए रखा जाता है। उसी शेल्टर होम में एक आठ साल की बच्ची टॉयलेट गई थी, लेकिन जब वो काफी देर तक नहीं निकली तो बच्चों कि देकरेख करने वाली  महिला सुनीता पवार उसे टॉयलेट में देखने गई। तो पाया कि बच्ची टॉयलेट में पानी के साथ खेल रही थी। इसी बात पर सुनीता भड़क गयी और उसने उस 8 साल की मासूम को बेरहमी से पिटाई शुरू कर दी। पिटाते हुए बच्ची को खांसी होने लगी और उसने वहीँ उल्टी कर दी, लेकिन देकरेख करने वाली सुनीता कि बर्बरता काम नहीं हुई उसने बच्ची को उसकी उल्टी पीने को मजबूर किया। बच्ची ने विरोध किया तो, उसने उसे ज़बरदस्ती उल्टी पिलाई।

शायद ये मामला सामने नहीं आता अगर शेल्टर होम कि दूसरी बच्चियों ने इसकी जानकारी अपने टीचर को न दी होती। इस पूरी घटना के 8 साल कि मासूम इस क़दर दर गई थी कि वो खामोश रहने लगी। कोई भी उसे हाँथ लगता तो वो चौंक जाती। जब उसकी ऐसी बदले हुए हरकतों के बारे में टीचर को पता चला तो उसने छानबीन कि, तब दूसरे बच्चों ने पूरी घटना टीचर को बताई। चिल्ड्रन शेल्टर होम कि टीचर ने तुरंत इसकी जानकारी प्रबंधक तक पहुंचाई और प्रबंधक ने भी बिना देर किये स्थानीय ट्रोम्बेय  पुलिस में मामला दर्ज करा दिया। 

आरोपी सुनीता पॉवर के खिलाफ Juvenile Justice Act के Section 75 के तहत मुक़दमा दर्ज किया गया है। मुंबई पुलिस भी इस मामले कि गंभीरता को देखते हुए काफी सख्ती से जांच कर रही है। इस मामले में पुलिस ने शेल्टर होम की दूसरी लड़कियों का भी बयान ले लिया है। पीड़ित बच्ची मुंबई के ही बांद्रा इलाक़े की है, जो लगभग एक महीने पहले अपने घर से ग़ायब हो गई थी। पुलिस को अभी तक उसके मां- बाप का पता नहीं चल पाया है इसी वजह से बच्ची को 1 मई को चाइल्ड शेल्टर होम  में भेज दिया गया था।


Close Bitnami banner
Bitnami