एक बार फिर इंडियन कोस्ट गार्ड ने बीच समंदर में फंसे लोगों की बचाई जान

भारतीय तटरक्षक बल ने एक यॉट पर सवार दो विदेशी नागरिकों की जान बचाई है । समंदर में संकट में फंसे होने का संदेश मिलने के बाद लक्षदीप तट के पास दोनों लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला गया । रेस्क्यू किये गए दोनों शख्स साउथ अफ्रीका के रहने वाले हैं । और लुईस नाक की यॉट से पोर्ट विक्टोरिया से निकल कर अबु धाबी जा रहे थे । लक्षदीप के पास बीच समंदर में अचानक उनकी यॉट खराब हो गई थी । जिसके बाद दोनों ने डिस्ट्रेस कॉल के ज़रिये मदद मांगी थी ।

तटरक्षक के समुद्री बचाव समन्वय केंद्र (एमआरसीसी) के मुताबिक, उसे ‘लुईस नाक’ यॉट की नौका से 4 अगस्त को करीब डेढ़ बजे के आस पास अलर्ट प्राप्त हुआ था । जिसके बाद उन्हें ढूंढ़ने के लिए ICGS समर्थ को लगाया था । करीब चार घंटे के लम्बी तलाश के बाद उन्हें 25 किलोमीटर साउथ ईस्ट की तरफ करावती आइलैंड के पास   लोकेट किया गया । 

दोनों ने बताया कि, वो  पिछले 48  घंटे से समंदर में फंसे हुए थे । 38 फीट लंबी यॉट इंजन खराब होने की वजह से समंदर में डूब रही थी जिसके बाद उन्होंने ने मदद के लिए डिस्ट्रेस कॉल किया था ।

रेस्क्यू टीम के सदस्य के मुताबिक, बेहद खराब मौसम और तूफानी समंदर में दोनों विदेशियों को बचाना कोस्ट गार्ड के लिए किसी चुनौती से कम नहीं था । मौसम तो ख़राब था ही उनकी बोट में भी पानी भरने लगा था । ऐसे में उनकी कोशिश थी जल्द से जल्द बाहर निकालना । करीब एक घंटे कि मशक्कत के बाद दोनों को निकल लिया गया । रेस्क्यू किए गए विदेशियों के नाम है मारुन क्रिस्टोफ और गेविन स्टिफन है ।

 


Close Bitnami banner
Bitnami