फिर सामने आयी भाईजान सलमान खान की दरियादिली

कहते हैं सलमान खान यारों के यार हैं, जब कभी भी किसी को ज़रूरत पड़ी उन्होंने अपने दोनों हाँथ खोलकर उसकी मदद की है। जब दो साल के राकेश आवर के मां-बाप ने अपने बच्चे को बचने कि सारी उम्मीद खो दी थी। तब सलमान खान और बीइंग ह्यूमन फॉउंडेशन उनके लिए भगवान बनकर आगे आया।

ठाणे शहर में रहने वाले यज्ञ राकेश आवार नाम के 2 साल के बच्चे को लीवर कि गंभीर बीमारी थी। डॉक्टरों ने उसकी ज़िन्दगी बचाने के लिए लीवर ट्रांसप्लांट कि सलाह दी थी। इसके लिए अस्पताल की ओर से 17 लाख रुपये का खर्च बताया गया था। महज़ 13 हजार रुपये कमाने वाले पिता की इतनी सलाहियत नहीं थी कि वो अपने बच्चे का इलाज करा सकें। इसी बीच पत्रकार विनोद जगदाले से मदद के लिए संपर्क साधा। विनोद ने भी बच्चे कि ज़िन्दगी बचाने कि हर मुमकिन कोशिश शुरू कर दी। उन्होंने एक और पत्रकार किरण उमरीगर से संपर्क साधा और उनसे बीइंग ह्यूमन संस्था से प्रयास करने को कहा और सारे जरूरी कागजात जमा कराए। 

किरण के ज़रिये सलमान खान और उनके फॉउंडेशन से 1 लाख रुपये की मदद कि उम्मीद कि गई थी। लेकिन भाईजान तो भाईजान है बिना देर किये फ़ौरन मासूम राकेश के इलाज के लिए बीइंग ह्यूमन’ संस्था ने ऑपेरशन के लिए 2 लाख रुपये की सराहनीय मदद की है। अब राकेश के परिवार को कई उम्मीदें जगने लगी हैं। वो सलमान को दुआ देते नहीं थक रहे हैं । ये कोई पहले मामला नहीं है जब सलमान ने मुसीबत में पड़े लोगों कि इस तरह से मदद कि है। हाल में एक पत्रकार के इलाज के लिए भी उनकी तरफ से बहुत मदद मिली थी।  इसके पहले एक प्रि मेच्योर बेबी के ‌इलाज के लिए एक करोड़ रुपए की मदद की थी।


Close Bitnami banner
Bitnami