हनीप्रीत के कमरे से मिला लग्जरी सामान, ज्वैलरी से लेकर घड़ी तक; कमरा सील

हाईकोर्ट के निर्देश पर डेरा सच्चा सौदा के सिरसा स्थित मुख्यालय में सर्च ऑपरेशन चल रहा है। सर्च ऑपरेशन के लिए नियुक्त कोर्ट कमिश्नर एके पंवार की टीम डेरे के चप्पे-चप्पे की जांच कर रही है। वहीं, चंडीगढ़ में हरियाणा के गृहविभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रामनिवास ने बताया कि सर्च अभियान में टीम को हनीप्रीत का कमरा भी मिला है। जहां से बड़ी मात्रा में लग्जरी आइटम बरामद किया गया है और फिलहाल उस कमरे को सील कर दिया गया है।

– अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) राम निवास ने बताया कि डेरे में तलाशी के दौरान बाबा राम रहीम की कथित मुंह बोली बेटी हनीप्रीत का कमरा सील किया गया है।
-इसमें उसके गहने, कपड़े और कुछ अन्य महंगा सामान होेने की जानकारी है।
– हनीप्रीत राम रहीम को सजा होने के बाद से ही फरार है।
– उसके खिलाफ देशद्रोह और हिंसा फैलाने की साजिश में शामिल होने का मामला दर्ज हो रखा है। उसके लुक आउट नोटिस भी जारी किए जा चुके हैं।
– रामनिवास ने बताया कि सुरंग ढूंढने वाली स्पेशल टीम भी वहां बुलाई गई है। क्योंकि सरकार को शक है कि बाबा ने सुरंग के रास्ते जरूरी दस्तावेज और सामान बाहर भेज सकता है।
– हनीप्रीत के कमरे से कीमते कपड़े से लेकर कई आलीशान चीजें मौजूद हैं। डेरे के खातों की जांच के लिए 100 बैंक मुलाजिम भी डेरे में मौजूद हैं।
– वहीं, मीडिया में खबरें आ रही हैं कि डेरे में सर्च ऑपरेशन के दौरान बड़ी मात्रा में कैश बरामद हुआ है और दो कमरों से आपत्तिजनक सामान भी मिला है।

शुक्रवार को अंशुल ने की चंडीगढ़ में प्रेस कांफ्रेंस…

– राम रहीम पर जर्नलिस्ट की हत्या का मामला भी चल रहा है। 16 सितंबर को इस मामले में फैसला आ सकता है। उससे पहले 8 अगस्त को पत्रकार के बेटे अंशुल ने चंडीगढ़ में मीडिया से बात की।
– उल्लेखनय है कि अंशुल के पिता पत्रकार रामचंद्र छत्रपति ने अपने अखबार ‘पूरा सच’ में वो गुमनाम पत्र छापा था, जिसमें गुरमीत राम रहीम पर एक महिला ने रेप का आरोप लगाया था।
– इसके बाद रामचंद्र छत्रपति की उनके घर में गोलियां मार कर हत्या कर दी गई थी।
– अंशुल छत्रपति का कहना है कि मेरे पिता ने कथित बाबा राम रहीम के ख़िलाफ सबसे पहले सरकार, प्रशासन और समाज को अगाह करने की कोशिश की थी, उस वक्त उनकी तरफ किसी ने ध्यान नहीं दिया।
– अंशुल के पिता रामचंद्र छत्रपति की हत्या के मुक़दमे पर सुनवाई 16 सितंबर से पंचकुला की अदालत में शुरू होने वाली है। छत्रपति पर साल 2002 में हमला हुआ, 28 दिनों तक मौत से लड़ने के बाद सांसों ने उनका साथ छोड़ दिया।
– अंशुल कहते हैं 14 साल बाद कथित संत राम रहीम को रेप के दो मामलों में सज़ा सुनाई गई। वह कहते हैं कि उन्हें अन्य मामलों में भी सजा होनी चाहिए।
– वह किसी राजनीतिक दल ने हमारा साथ नहीं दिया। चाहे वो आरएनएलडी हो, बीजेपी हो या कांग्रेस उस वक्त सभी उसे बचाना चाहते थे। लेकिन मीडिया व समाज ने हमारी मदद की।

Source: Dainik Bhaskar


Close Bitnami banner
Bitnami