इस बार एक नहीं बल्कि चार चार मौतों वाली सेल्फी

हाल ही में सेल्फी के चक्कर में मुंबई के मरीन ड्राइव में 17 वर्षीय प्रीति ने अपनी जान गंवाई थी।उसके बाद एक बार फिर सेल्फी जानलेवा साबित हुई।इस बार सेल्फी के चक्कर में एक या दो जान नहीं बल्कि चार जाने गयी है। महाराष्ट्र के वर्धा जिले में बांध के पास सेल्फी लेने के चक्कर में चार लोगों की मौत का मामला सामने आया है।

घटना की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने कुछ स्थानिय मछुवारों के साथ मिलकर शवों को निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया। पुलिस और मछुवारों की कड़ी मशक्कत देर शाम दो का शव पानी से बाहर निकाल लिया गया।

मरने वाले में 3 लड़की और एक लड़का चारों की उम्र 18 से 20 के बीच में है और चारों भी एक ही कॉलेज के स्टूडेंट और दोस्त है। इनकी पहचान गौरव गुल्हाने, वर्धा की रहने वाली श्वेता नेहारे, शीतल प्रधान और सोनल नाईक के रूप में हुई हैं।

जानकारी के मुताबिक छुट्टी का दिन होने की वजह से चारों दोस्त वर्धा डैम के पास घूमने के लिए आये हुए थे। तभी डैम को नजदीक से देखने और सेल्फी लेने के चक्कर में ये लोग बांध के अंदर पत्थर पर जा खड़े हुए। तभी सेल्फी निकालनें के चक्कर में एक लड़की का पत्थर पर से पैर फिसल गया और वो गहरे पानी में जा गिरी। उसे बचाने के लिए उसके तीनों दोस्त भी पानी में कूद पड़े। पानी के तेज़ बहाव और तेज लहरों के कारण ये लोग संभल नहीं सके और पानी में डूब गए।

मामले की जांच कर रही पुलिस इंस्पेक्टर विनोद चौधरी ने बताया कि मरने वाली लड़कियों में एक नर्सिंग की स्टूडेंट थी और दो लड़कियां 10 वीं क्लास में पढ़ती थीं। खरागना पुलिस स्टेशन को सूचना मिली थी कि, यहां कुछ लोग डूबे है, हम अपने दल के साथ पहुंचे, ये चारों यहां वर्धा से घूमने के लिए यहां आए थे, तभी पानी में मस्ती करते समय इनका बैलेंस बिगड़ गया और ये पानी मे डूब गए।”इस घटना के बाद से सभी के घर में मातम फैला हुआ है।


Close Bitnami banner
Bitnami