जेल से भागने के फ़िराक में था आरोपी लेकिन हो गयी गूगली

‘न खुदा ही मिले न विसाले सनम ‘ ऐसा ही ही कुछ हुआ मुंबई के आर्थर रोड जेल में बंद एक आरोपी के साथ। जिसने जेल की दीवार फांद कर भागने की पूरी तैयारी कर ली थी। लेकिन किस्मत देखिये 22 फीट ऊंची दीवार को फांदकर वो कूदा तो सीधे पुलिस वालों की गाडी पर। यानी  ‘आसमान से गिरे, खजूर पर अटके’। फिलहाल आरोपी घर पहुँचने के बजाय अस्पताल पहुँच गया है जहाँ डॉक्टर उसकी टूटी फूटी हड्डियों जोड़ने में लगे हैं। 

मामला ईद वाले दिन यानी 26 जून का है। मुंबई पुलिस ने अवैध रूप से शरह में रहने वाले एक बांग्लादेशी नागरिक 27 वर्षीय रोमन इस्लाम हुसैन को गिरफ्तार किया था। आरोप था की वो बिना किसी वैध कागज़ात के मुंबई में रह रहा था। गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने उसे अदालत में पेश किया जहाँ से उसे आर्थर रोड जेल भेज दिया गया। रोमन दस दिनों से जेल में बंद था लेकिन उससे मिलने कोई भी नहीं आया। और तो और ईद भी आ गई। ये बात उसे बहुत खल रही थी की वो परिवार से दूर जेल में बंद है। 

वो अपने घर जाने को बेताब था। लेकिन कैसे जाया जाए ये बात उसको समझ नहीं आ रही थी। फिर उसने जेल से भागने की प्लानिंग बनाई। जब तमाम बंदियों और क़ैदियों को ईद की नमाज़ पढ़ने के लिए छोड़ा गया। उसने नमाज़ पढ़ी और इधर उधर घूमता रहा।  

मगर, उसके परिवार का कोई भी सदस्य उससे मिलने के लिए नहीं आया। यह बात उसे परेशान कर रही थी और परिवार के लोगों से मिलने के लिए वह इतना आतुर हो गया कि 22 फीट ऊंची दीवार पर चढ़कर बाहर कूद गया। सुबह करीब 11.20 बजे वो पुलिस वालों से नज़र बचाकर दीवार पर चढ़कर पेड़ के रास्ते भागने की कोशिश की, जब उसे लगा ये आसान नहीं होगा तो 22 फीट नीचे छलांग लगा दी। लेकिन किस्मत देखिये छलांग लगाईं तो गिरा भी नीचे सुरक्षा के लिए तैनात स्टेट रिजर्व प्रोटेक्शन फोर्स के एक वाहन पर। कूदने के कारण रोमन के पैर में काफी चोटें आई है। फ़िलहाल उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहाँ उसका इलाज चल रहा है।


Close Bitnami banner
Bitnami