कब्रिस्तान में दफन हुआ मुस्तफा दोसा, अंडरवर्ल्ड से जुड़े लोग भी अंतिम विदाई देने पहुंचे

1993 मुंबई ब्लास्ट केस का मास्टरमाइंड मुस्तफा दोसा गुरुवार को मुंबई के मुंबई के मरीन लाइंस इलाके के बड़े कब्रिस्तान में दफन हुआ। आर्थर रोड जेल में बंद 60 वर्षीय दोसा की कल मुंबई के जे जे अस्पताल में मौत हो गई थी। उसे सीने में दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जनाजे में अंडरवर्ल्ड से जुड़े लोग भी हुए शामिल…

कब्रिस्तान में दफन हुआ मुस्तफा दोसा, अंडरवर्ल्ड से जुड़े लोग भी अंतिम विदाई देने पहुंचे

– मुंबई पुलिस की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि, पोस्टमार्टम के बाद बुधवार रात करीब साढ़े दस बजे दोसा के परिवार को उसका शव सौंप दिया गया।
– फैमिली मेंबर्स दोसा की बॉडी को मध्य मुंबई के आग्रीपाडा इलाके में बने उसके घर पर ले गए।
– पुलिस ने बताया कि गुरुवार सुबह करीब 1:30 पर दोसा के परिवार के सदस्यों और रिश्तेदारों ने दक्षिण मुंबई के मरीन लाइंस इलाके में बड़ा कब्रिस्तान में उसके माता-पिता की कब्र के पास उसे दफन कर दिया।
– दोसा के अंतिम संस्कार के लिए भारी सुरक्षा बंदोबस्त किए गए थे। सूत्रों के मुताबिक दोसा को अंतिम विदाई दें के लिए अंडरवर्ल्ड से जुड़े कुछ लोग भी इसमें शामिल हुए।
 
 
सीबीआई ने दोसा के लिए मांगी थी फांसी
 
–  स्पेशल पब्लिक प्रॉसिक्यूटर ने इस मामले में मंगलवार को हुई सुनवाई के दौरान कोर्ट से दौसा के लिए फांसी की सजा सुनाने की मांग की थी।
–  बता दें कि 1993 के मुंबई सीरियल ब्लास्ट के 24 साल बाद 16 जून को स्पेशल टाडा कोर्ट ने गैंगस्टर अबु सलेम और मुस्तफा दौसा समेत छह आरोपियों को    दोषी करार दिया था। सबूतों के अभाव में एक आरोपी को बरी कर दिया।
– दोषियों को अभी सजा नहीं सुनाई गई है। सलेम को पुर्तगाल से प्रत्यर्पण करके भारत लाया गया था। ऐसे में प्रत्यर्पण संधि की शर्त के तहत उसे फांसी या      उम्रकैद की सजा नहीं दी जा सकती। उसे ज्यादा से ज्यादा 25 साल जेल की सजा हो सकती है।
– बता दें कि 12 मार्च 1993 को हुए धमाकों में 257 लोग मारे गए थे, जबकि 713 लोग घायल हुए थे। करीब 27 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी का नुकसान हुआ था।
 
source DAINIK BHASKAR

Close Bitnami banner
Bitnami