महाराष्ट्र में डेढ़ लाख रुपए तक कर्ज माफ, 89 लाख किसानों को मिलेगा फायदा

महाराष्ट्र सरकार ने 90% किसानों का डेढ़ लाख रुपए तक का कर्ज माफ कर दिया है। शनिवार को इसका एलान सीएम देवेंद्र फडणवीस ने किया। उन्होंने बताया कि इस फैसले से राज्य सरकार पर 34,000 करोड़ का बोझ पड़ेगा। बता दें कि कर्ज माफी को लेकर महाराष्ट्र के किसानों ने एक से आठ जून तक आंदोलन किया था। सरकार की पहल के बाद यह आंदोलन खत्म कर दिया गया था, लेकिन, स्वाभिमानी शेतकारी संगठन के राजू शेट्टी और कुछ किसान संगठनों ने कहा था कि, अगर 25 जुलाई से पहले किसानों का लोन माफ नहीं हुआ, तो हम फिर सड़कों पर उतरेंगे। सीएम ने कहा- मंत्री अपनी सैलरी देंगे और खर्चों में कटौती करेंगे…

महाराष्ट्र में डेढ़ लाख रुपए तक कर्ज माफ, 89 लाख किसानों को मिलेगा फायदा

– देवेंद्र फडणवीस ने कहा- “इस फैसले से पड़ने वाले बोझ के बारे में हम जानते हैं और इसके लिए अपने खर्चों में कटौती करेंगे। सभी मंत्री और विधायक किसानों की मदद के लिए 1 महीने का वेतन दान करेंगे।”
– “90 फीसदी किसानों का कर्ज माफ किया जा रहा है। इससे 89 लाख किसानों को फायदा होगा। वहीं, 40 लाख किसान पूरी तरह से कर्ज से मुक्त हो जाएंगे। जिन किसानों ने नियमित रूप से लोन चुकाया है, उन्हें भी 25 हजार रुपए की मदद दी जाएगी।”
– किसानों के कर्ज माफ करने की इस स्कीम को ‘छत्रपति शिवाजी महाराज कृषि सम्मान’ नाम दिया गया है। बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा का अगला सत्र 25 जुलाई से शुरू होने वाला है। विपक्ष इसे मुद्दा बना सकता है।
किसानों ने एक जून से 8 तक दिन तक किया था आंदोलन

– अहमदनगर के पुणतांबा से किसानों ने 1 जून को आंदोलन शुरू किया था। यह 8 जून तक चला। राज्य के कई हिस्सों में हिंसा हुई। किसानों ने फसल, सब्जियों और दूध को सड़कों पर फेंक दिया था। आठ किसानों ने खुदकुशी की। राज्य में जरुरी सामान की किल्लत हो गई थी। दूध के टैंकर्स को पुलिस सिक्युरिटी दी गई थी।
– सरकार में शामिल शिवसेना ने भी किसानों का पक्ष लेते हुए समर्थन वापसी की धमकी दी थी।

सीएम ने किए थे ये वादे

– आंदोलन के बीच सीएम ने 2 जून को किसानों से मीटिंग की थी। इसमें उन्होंने 31 अक्टूबर तक कर्ज माफी पर फैसला लेने का भरोसा दिलाया था। साथ ही बिजली के बिल भी माफ करने की बात कही थी।
– किसान आंदोलन 2 गुटों में बंट गया था। संघ और बीजेपी से जुड़े किसान नेताओं ने आंदोलन वापस लेने का एलान किया था। इसके बाद भी विरोध-प्रदर्शन जारी रहा। स्वाभिमानी किसान संगठन, भूमाता किसान आंदोलन और दूसरे संगठनों ने यह आंदोलन जारी रखा था। आंदोलन को अन्ना हजारे और नाना पाटेकर ने भी सपोर्ट किया था।

4 राज्यों में अब तक 3 करोड़ किसानों को फायदा

1. महाराष्ट्र: 89 लाख किसानों का डेढ़ लाख रुपए तक कर्ज माफ।
2. यूपी:2 करोड़ 15 लाख किसानों का एक लाख रुपए तक का कर्ज माफ।
3. कर्नाटक: 22 लाख 27 हजार किसानों का 50 हजार रुपए तक कर्ज माफ।
4.पंजाब: 10 लाख 25 हजार किसानों का दो लाख रुपए तक का कर माफ।
कर्ज माफी पर क्या है सरकारों का रुख?

 

– एमपी: राज्य के कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने कहा है कि किसानों के लिए कर्ज माफी का सवाल नहीं उठता। वे इसके पक्ष में नहीं हैं।
– उत्तर प्रदेश: योगी आदित्यनाथ ने सीएम बनते ही फैसला किया था कि उत्तर प्रदेश में किसानों का कर्ज माफ किया जाए। 2 करोड़ 15 लाख किसानों के एक लाख रुपए तक कर्ज माफ करने का फैसला लिया गया।
– पंजाब:हाल ही में कैप्टन अमरिंदर सिंकर्नाटक सरकार ने बुधवार को किसानों की कर्जमाफी का एलान किया। इसके तहत 50 हजार रुपए तक के कर्ज माफ किए जाएंगे। सिद्धारमैया सरकार के फैसले से राज्य के बजट पर 8165 करोड़ का बोझ पड़ेगा।ह ने 5 एकड़ तक के किसानों के 2 लाख तक के कर्ज पूरी तरह माफ करने का एलान किया। इसका फायदा 10.25 लाख किसानों को मिलेगा।
– कर्नाटक:कुछ दिन पहले कर्नाटक सरकार ने किसानों की कर्जमाफी का एलान किया था। इसके तहत 50 हजार रुपए तक के कर्ज माफ करने की बात कही गई। सिद्धारमैया सरकार के फैसले से राज्य के बजट पर 8165 करोड़ का बोझ पड़ेगा।
– केंद्र:अरुण जेटली ने कहा है कि किसानों की कर्ज माफी पर केंद्र मदद नहीं करेगा। राज्यों को इसके लिए खुद पैसा जुटाना होगा।

source DAINIK BHASKAR


Close Bitnami banner
Bitnami