महिला आईएएस को तीन घंटे तक बंधक बनाया गया

पालघर ज़िले में तैनात महिला अधिकारी और ज़िले की सीईओ निधि चौधरी ने पूर्व विधायक और उनके लोगों पर बेहद गंभीर आरोप लगाए हैं. उनका आरोप है की पूर्व विधायक विवेक पंडित और श्रमजीवी संघटना के लोगों ने उन्हें 3 घंटे तक बंधक बना कर रखा और उनके साथ बदसलूखी कि गयी. वो जरूरी मीटिंग के लिए जा रहीं थी फिर भी उनके साथ ज़ोर ज़बरदस्ती करके बिठाये रखा गया. निधि चौधरी ने मौजूदा व्यवस्था पर भी गंभीर सवाल भी उठाये हैं. उनके मुताबिक अगर उनके पास कुछ पुलिस वाले नहीं होते तो पता नहीं क्या हो जाता.

निधि चौधरी ने कई ट्वीट कर कहा की उन्होंने उस वक़्त ‘खुद को सीता और द्रौपदी जैसे अनुभव से गुजरने की बात कही है.

”काश द्रौपदी आखिरी स्त्री होती जिसके साथ सरेआम इस तरह की हरकत की गयी हॉट, उसे प्रताड़ित और लज्जित किया गया होता. आज भी हर औरत की जिंदगी में महाभारत जारी है. धन्यवाद भारत. आज चाहे युग कोई भी हो सीता की मासूमियत का फायदा उठाने के लिये साधु के वेश में एक नही कई सारे रावण एक साथ आ ही जाते हैं. लेकिन उसे बचाने एक भी राम नही आता. जिला परिषद के लिए क्या यही है पंचायतीराज दिन है .

मोर्चा के जरिये पालघर सीईओ ऑफिस में दहशत , मारपीट और दुर्व्यवहार.  सीता और द्रौपदी सिर्फ कथा में नही हकीकत है.”  ”गुंडों का सामना करने से अच्छा है बंदूक का सामना करना. कारतूस को बत्ती वाली गाड़ियों से ज्यादा वरीयता मिलनी चाहिए. व्यवस्था में गुंडे भगवान बन चुके हैं.”

इस बीच महिला अधिकारी की शिकायत पर पुलिस ने विवेक पंडित सहित उनके साथियों को गिरफ्तार कर लिया.


Close Bitnami banner
Bitnami