मुख्यमंत्री से मिलने के बाद, देर रात किसानों ने कि हड़ताल ख़त्म

आखिरकार महाराष्ट्र में आंदोलन कर रहे किसानों ने अपनी हड़ताल ख़त्म करने का एलान कर दिया है। किसान कर्जमाफी और अन्य मुद्दों को लेकर पिछले दो दिनों से हड़ताल पर थे। जिसका व्यापक असर दिखाई देने लगा था। आनन फानन में सरकार ने थोड़ा नरम रुख अपनाते हुए किसान आंदोलन के नेताओं से दुबारा से बातचीत शुरू की थी। जिसके बार करीब आठ घंटे चली बैठक के बाद,  हड़ताल कर रहे किसानों ने सीएम से मिलने के बाद अपनी हड़ताल वापस लेने का फैसला किया है। 

maharastra farmer 3

देर रात तक चली इस बैठक में तय हुआ है कि,  राज्य सरकार कर्ज चुकाने में असमर्थ छोटे किसानों का कर्ज 31 अक्टूबर तक माफ कर देगी। इसके साथ ही किसानों को उचित समर्थन मूल्य देने के लिए कानून भी बनाया जाएगा। सरकार इसी साल 20 जून तक दूध की नई कीमत तय कर देगी। और आंदोलन के दौरान जिस किसान की मौत हुई है सरकार उसे आर्थिक मदद देगी। और आंदोलन के दौरान किसानों पर हुए केस को वापस लिया जाएगा.

आपको बता दें कि कर्ज माफी और फसलों के उचित समर्थन मूल्य को लेकर पूरे प्रदेश के किसान दो दिन से आंदोलन पर थे।उन्होंने विरोध के तौर पर अपनी सब्ज़ी, फल और दूध सड़क पर फेकने और बहाने लगे थे। किसानों के आंदोलन की वजह से दूध और सब्जी की सप्लाई पर बुरा असर पड़ा था। इनके दाम दो दिन में ही आसमान छूने लगे थे।


Close Bitnami banner
Bitnami