मुश्किल में हैं अंकित तिवारी, दुबारा खुल सकता है बलात्कार का केस

अदालत से भले ही सिंगर और कंपोजर अंकित तिवारी बरी हो गए हों, लेकिन उनकी मुश्किलें फिलहाल ख़त्म नहीं हुई है। अगर पीड़िता के वकील कि मानें, तो वो इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएंगी। उनके मुताबिक़ मुंबई पुलिस ने इस मामले में सही तफ्तीश नहीं कि है। ये बात पूरी तरह से बेबुनियाद है कि पीड़िता अदालत में होस्टेज हो गयीं थी और वो अपने बयान से मुकर गयीं थी। अब वो इस फैसले के खिलाफ सर्वोच्च न्यालय जाएंगी ताकि उन्हें इन्साफ मिल सके। 

पीड़िता के मुताबिक़ वो अपने बयान से नहीं मुकरी, बल्कि “मुझ पर केस वापस लेने के लिए दबाव बनाया गया था, इसलिए मैं कोर्ट में अपने दिए बयान से मुकर गई थी। लेकिन अब मैं हाईकोर्ट में दोबारा जाऊंगी”। मैंने इस बारे में वर्सोवा पुलिस थाने के अफसरों को भी जानकारी दी थी। उनकी तरफ से भी कुछ नहीं किया गया।

ये भी पढ़ें:

रेप के मामले से बरी हुए `सुन रहा है न तू` फेम अंकित तिवारी

 

साल 2014 में सिंगर अंकित तिवारी पर एक महिला ने शादी का झांसा देकर रेप करने का आरोप लगाया था। पीड़िता का आरोप था कि, अंकित तिवारी ने उसे शादी का झांसा देकर उसके साथ अक्टूबर 2012 से दिसंबर 2013 के बीच कई बार बलातकार किया था। जब पीड़िता ने उसे शादी की बात की तो वो उसे डरा धमकाकर खामोश करते रहे। सिर्फ अंकित ही नहीं उनके भाई ने कई बार उसे धमकी दी और बदसलूखी भी की। 

इस मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट ने पर्याप्त सबूत नहीं होने और पीड़िता के बयान से मुकर जाने की वजह से अंकित और उनके भाई अंकुर को सभी आरोपों से बरी कर दिया था। 


Close Bitnami banner
Bitnami