नाशिक वैतरणा बाँध में मच्छी मारने पर पाबंदी

मुंबई को पानी देने वाली नाशिक वैतरणा बाँध में अवैध मच्छी मारने वाले माफिया द्वारा बाँध में डाली जा रही जहरीली दवा से पूरा पानी जहरीला होते जा रहा था।अबतक करोड़ों मुंबईकरों के जान से खिलवाड़ किया जा रहा था। lede india में खबर प्रकाशित होने के बाद हरकत में आये राज्य के जलसंपदा मंत्री गिरीश महाजन अपने अधिकारीयों को तत्काल दो दिनों में मामले की जांच करने और दोषियों पर कार्यवाही करने का आदेश दिया था।

ये भी पढ़ें :

EXCLUSIVE कौन है ? जो रोज मुंबईकरों को पिला रहा है जहर

मंत्री के आदेश के बाद अधिकारयों के दफ्तर में लगा ताला खुल गया, अधिकारी मामले की जांच में जूट गए। अधिकारीयों ने वैतरणा बाँध के आसपास के गांव वालो के साथ मिलकर बाँध में होने वाले अवैध कामों के बारे बात की। इसके बाद गांव वालों ने मच्छी मारने वाले माफियां द्वारा डाली जा रही जहरीली दवा से होने वाली परेशानियों के बारे में बताया जिसके बाद अधिकारीयों बाँध में मच्छी मारने पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी।

इतना ही नहीं मुंबईकरों को शुद्ध पानी मिल सके इसके लिए बाँध में पड़े खतरनाक वनस्पतियों को निकालने का आदेश दिया गया है। और बाँध की सुरक्षा व्वस्था को देखते हुए बाँध के आस पास सुरक्षा व्वस्था बड़ा दी गयी है।वैतरणा बाँध के आस पास अधिक संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।


Close Bitnami banner
Bitnami