पंचतत्व में विलीन हुआ महाराष्ट्र का लाल सुमेध गवई

जम्मू काश्मीर के शोपियां में आतंकियों को मार गिराने के लिए चलाए गए विशेष ऑपरेशन में सेना ने तीन आतंकियों को मार गिराया था। जिसमे भारत के दो जवान भी शहीद हो गए थे।शहीद हुए जवानों में एक जवान सुमेध गवई महाराष्ट्र के अकोला का रहने वाला है। जिसका पार्थिव शरीर अकोला के लोनारा गांव लाया गया। जहां आज उनका राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।

सुमेध का शव कल रात दिल्ली से अकोला एक विशेष विमान से लाया गया। सोमवार सुबह अकोला से एक विशेष गाडी से शव को उनके लोनारा गांव लाया गया था। जहां उनके पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था। जिले हज़ारों लोगों ने पहुंचकर नम आँखों से उन्हें अंतिम विदाई दी। सुमेध का अंतिम संस्कार गांव से कुछ दूर एक खेत में सरकारी सम्मान के साथ किया गया।

जानकारी के मुताबिक सुमेध चार साल पहले आर्मी में जॉइंट हुआ था।1अगस्त के दिन उसका जन्मदिन था। लेकिन वो चार दिन बाद छुट्टी लेकर अपने परिवार वालों के साथ जन्मदिन मानना चाहता था। लेकिन आतंकियों की गोली ने सुमेध के सपने को बस सपना ही रहने दिया।

रविवार के दिन इंडियन आर्मी और स्टेट पुलिस को शोपियां के अवनिरा गांव में आतंकियों के छुपे होनी के जानकारी मिली थी। जिसके बाद आर्मी और स्टेट पुलिस आतंकियों के खात्मे के लिए एक स्पेशल ऑपरेशन चलाया था।जिसके बाद आतंकियों ने उनपर जवाबी हमला कर दिया जिसमे पांच जवान घायल हो गए थे। घायल जवानों को पास के अस्पताल में ले जाया गया जहां दो जवानों ने अपना दम तोड़ दिया


Close Bitnami banner
Bitnami