पूर्व सीएम कामत की मुश्किल बढ़ी, अवैध खनन मामले में एसआइटी का समन

अवैध खनन मामले की जांच कर रही गोवा एसआइटी ने 2013 के अवैध खनन मामले में पूर्व मुख्यमंत्री दिगंबर कामत और गोवा खान और भूविज्ञान विभाग के पूर्व निदेशक अरविंद लोलिन्कर को पेश होने के लिए समन जारी किया है। एसआइटी अधिकारी प्रियंका कश्यप के मुताबिक़ कामत को ये दूसरा समन है, उन्होंने पहले भी बुलाया गया था लेकिन वो नहीं आये। उन्हें अब 18 अप्रैल को पेश होने के लिए कहा गया है। 

पूर्व मुख्यमंत्री दिगंबर कामत और उनके सहयोगियों से फरवरी 2014 में भी एसआइटी पूछताछ काट चुकी है। जबकि पूर्व निदेशक अरविंद लोलिन्कर को मार्च 2014 में गिरफ्तार कर लिया था। फिलहाल वह जमानत पर हैं।

इस मामले की जांच के लिए जस्टिस (सेवानिवृत्त) एमबी शाह के नेतृत्व में आयोग का गठन किया था, जो इस पूरे मामले की जांच कर रही है। आयोग ने अपनी रिपोर्ट में पहले ही कहा था कि, सुप्रीम कोर्ट के राज्य में लौह अयस्क के उत्खनन को पूरी तरह प्रतिबंधित करने के बाद भी  गोवा में 2005 से 2012 के बीच करीब 35,000 करोड़ रुपये तक का अवैध खनन हुआ।

जिसके बाद ही शाह आयोग समेत और दूसरी समितियों ने अपनी रिपोर्टों में अवैध खनन में शामिल जिन लोगों के शामिल होने की बात कही थी, उनके खिलाफ आपराधिक दायित्व तय करने के लिए खान और भूविज्ञान विभाग ने जुलाई 2013 में एक शिकायत दर्ज कराई थी। मामले की जांच कर रही एसआइटी ने अगस्त 2013 में कामत, लोलिन्कर, विभाग के कुछ अन्य अधिकारियों, खनन फर्मों और अन्य लोगों समेत रिपोर्टों में नामित लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी।


Close Bitnami banner
Bitnami