सरकार चाहे कुछ भी दावा करे ! महाराष्ट्र में उग्र हो रहा है किसान आंदोलन

महाराष्ट्र सरकार चाहे जो भी दावे कर ले ! लेकिन हकीकत ये है कि राज्य में किसानों का आंदोलन ख़त्म होना तो दूर ये और ज़्यादा उग्र हो रहा है। नासिक सहित कई इलाकों में किसानों का आंदोलन इतना उग्र हो चूका है कि सरकार के आदेश पर इंटरनेट सेवा तक बंद कर दी गई है। अहमदनगर में किसान इतना उग्र हो गए हैं कि उन्होंने पुलिस टीम पर हमला कर दिया गया। इस हमले में एक सब इंस्पेक्टर घायल हुआ है। किसानों ने राहुरी में एक मिल्क टैंकर में आग लगा दी गई।

किसानों का आंदोलन पूरे राज्य में उग्र रूप लेता जा रहा है। आंदोलनकारियों ने पुणे के शिरुर में बाजार रखा तो नासिक के मालेगांव सूरत हाईवे पर किसानों ने चक्का जाम आंदोलन शुरु कर दिया है। वहीँ महारष्ट्र के यवतमाल के लोहार में यात्री को नीचे उतारकर बस में तोड़फोड़ की गई। कई ज़िलों में मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस का पुतला जलाकर सरकार का विरोध जताया गया। तो कई जगहों पर किसानों पुलिस के बाच हिंसक झड़प कि भी खबर है। आंदोलन के चलते सुरक्षा के बीच दूध के टैंकर लाये जा रहे हैं।

हालांकि मुख्यमंत्री से मुलाक़ात के बाद किसानों ने हड़ताल खत्म करने का फैसला लिया गया था। लेकिन इस बीच किसाओं संघटन में फूट कि वजह से राज्य में कई जगहों पर आंदोलन जारी रहा। आंदोलन में शामिल राष्ट्रीय किसान सभा ने मीडिया के सामने आकर कहा कि आंदोलन को वापस नही लिया गया है। जिन लोगों ने मुख्यमंत्री के साथ बैठक कि थी वो कटपुतली है जो सरकार के हाथ बिक गए हैं। जिन मांगो को लेकर ये आंदोलन छेड़ा गया था उसमें से एक भी मांग सरकार ने नहीं मानी हैं।


Close Bitnami banner
Bitnami