स्कूलों में मनमानी फीस रोकने के लिए कानून में होंगे संसोधन- तावड़े

जिस तरह से निजी स्कुल मनमाने तरीके से फीस में बढ़ोतरी कर रहे हैं उसे रोकने के लिए  सरकार मौजूदा कानून में संशोधन करेगी। ये दावा महाराष्ट्र के शिक्षामंत्री विनोद तावड़े ने कि है। उन्होंने कहा की किसी भी शिक्षा संस्थान को मुनाफाखोरी नहीं करने दी जाएगी। साथ ही सरकार जल्द ही स्कूलों द्वारा अपने छात्रों को किताबें बेचने पर भी रोक लगाई जाएगी।

शिक्षामंत्री विनोद तावड़े ने इन सब मुद्दों को लेकर पुणे के स्कूलों को लेकर बैठक की। पुणे में मंत्री के दौरे के दौरान कई अभिभावकों ने शिक्षामंत्री का घेराव किया था। इस बैठक में शिक्षामंत्री विनोद तावड़े के इलावा अभिभावकों के प्रतिनिधियों के साथ साथ शिक्षा संस्था संचालक व शिक्षा विभाग के अधिकारी मौजूद थे।

बैठक के दौरान अभिभावकों ने स्कूलों द्वारा बार-बार फीस में बढ़ोतरी करने की शिकायत की। जबकि स्कूल संचालकों ने फीस वृद्धि की कई वजहें गिनाई। शिक्षामंत्री ने तावड़े कहा कि स्कूल फीस में बढ़ोतरी का फैसला पैरेंट-टिचर एसोसिएशन (पीटीए) की मौजूदगी में किया गया है या नहीं, इसकी जानकारी के लिए दो दिनों में बैठक की वीडियो रिकॉर्डिंग पेश की जाए।

वहीँ बैठक में कई पेरेंट्स ने शिक्षामंत्री को बताया कि सीबीएसई और आईसीएसई स्कूलों में छात्रों को स्कूलों से किताबें खरीदना अनिवार्य किया जाता है। नहीं खरीदने पर वो तरह तरह से परेशां करते हैं। जो किताबें बहार की दुकानों में काम दाम में मिलती है वही स्कुल के अंदर काफी महंगी है।जबकि स्कूल ऐसा नहीं कर सकते। स्कूल इसकी सूचना दे सकते हैं कि किस पाठ्यक्रम की किताब किस दुकान पर उपलब्ध है।


Close Bitnami banner
Bitnami