सुनिए कैसे “फूल पडला ” को कुछ लोगों ने “पूल पडला” समझा और मच गई मौत की भगदड़

एलफिंस्टन स्टेशन पर मची भगदड़ मामले में अहम खुलासा हुआ है। अब इस मामले के चश्मदीद सामने आने लगे हैं जो उस वक़्त हादसे वाली जगह पर न सिर्फ मौजूद थे बल्कि खुद भी फँस गए थे । प्रत्यक्षदर्शी ने बताया है कि, कैसी भीड़ ने फूल को पूल सुना और हर कोई अपनी जान बचाने के लिए यहाँ वहां भागने लगे। देखते ही देखते एक इंसान दूसरे को रौंदता चला गया। उस वक़्त ब्रिज पर काफी भीड़ थी और उसी भीड़ में से किसी ने बस यही आवाज़ लगाईं थी भाई  ‘फूल गिर गया’ फिर क्या था लोगों को सुनाई दिया ‘पुल गिर गया’ और अफरा तफरी मच गयी। मुंबई की रहने वाली शिल्पा विश्वकर्मा रोज़ की तरह उस दिन भी ट्रेन से उतरकर अपने काम के लिए जा रहीं थीं। और इस हादसे की चपेट में आ गयीं, उन्हें ज़्यादा चोटें तो नहीं आई लेकिन काफी अंदरूनी ज़ख्म मिले हैं। आज शिल्पा रेलवे के जांच पैनल के सामने बतौर गवाह पेश हुईं।  उन्होंने जांच टीम को पूरी जानकरी दी की कैसे भारी भीड़ के बीच एक फूलवाला सीढ़ियों पर फिसल गया था। जैसे ही वो गिरा किसीने चिल्लाया  ‘फूल गिर गया’। लेकिन लोगों ने कुछ और समझा और वहां भगदड़ मच गई।

उस हादसे में खुद शिल्पा भी चपेट में आकर नीचे गिर गईं थीं। भगदड़ में भीड़ ने उन्हें भी कुछ लोगों ने कुचला लेकिन एक शख्स ने उसे किसी तरह भीड़ से बहार निकाल लिया। शिल्पा ने बताया कि, उसे जिस शख्स ने बचाया वो खुद को बचा नहीं सका और मारा गया। शिल्पा को हाथ, पैर, पीठ और पेट पर चोटें आईं।

हादसे के बाद वेस्टर्न रेलवे के मुख्य सुरक्षा अधिकारी के नेतृत्व में 3 सदस्यीय जांच दल मामले की जांच में जुटी हैं। इसी जांच टीम के सामने इस हादसे में बचने वाली शिल्पा ने पेश होकर अपना बयान दर्ज कराया है

 


Close Bitnami banner
Bitnami