Maharashtra/Goa

इनका नाम सुनकर क्यों ? विधायक मंत्री भी कांपने लगते हैं !

0

आज महिला दिवस है तो बात उन महिलाओं की जिन्होंने खुद को न सिर्फ साबित किया है बल्कि दूसरों के लिए भी प्रेरणा श्रोत बानी है। आज हम आपको ऐसी महिला की कहानी बतायंगे जिनका नाम सुनते ही अच्छे अच्छे का पसीना निकल जाता है।

मिलिए महाराष्ट्र में ‘लेडी सिंघम’ के नाम से फेमस महिला आईपीएस ऑफिसर ज्योतिप्रिया सिंह से।जिस शहर में भी इनका तबादला हुआ उस शहर के गुंडे बदमाशों और मनचलों ने या तो शहर छोड़ दिया या फिर खुद को बदल दिया। इस दबंग और बेख़ौफ़ महिला अफसर पहली बार एक दिन में 88 मनचलों को पकड़ने की एक घटना को लेकर सुर्खियों में आईं थीं। 2008 बैच की आईपीएस हैं ज्योतिप्रिया इस वक़्त महाराष्ट्र के जालना में एसपी की पोस्ट पर तैनात हैं।

Sports person

 

कैसा रहा बचपन 

बचपन से ही ज्योति ने अलग सपने देखे, जिस उम्र में लड़कियां श्रृंगार में व्यस्त रहती हैं इन्होंने अपनी किताबों को अपना साथी बनाया। आँखों में सिर्फ एक ही सपना था आईएएस ऑफिसर बनना। उन्होंने ने अपना ये सपना साकार करके दिखाया , यूपीएससी की परीक्षा में ज्योति को 171 रैंक मिली और वो आईपीएस अफसर बनीं।

 

lady singham

1978 में लखनऊ में पैदा हुई ज्योति की स्कूलिंग भी वहीँ हुई। फिर ज्योति ने लखनऊ यूनिवर्सिटी से एमएससी की पढ़ाई की है। बतौर मेधावी छात्र उन्हें साल 2002-03 में  चांसलर मैडल से भी सम्मानित किया गया था। स्टडीज के अलावा ज्योतिप्रिया स्पोर्ट्स में भी हमेशा आगे रही हैं। वे बास्केटबॉल की अच्छी प्लेयर हैं। पिता रणवीर सिंह पीएससी में असिस्टेंट कमांडेंट थे। उनकी मां ऐना सिंह महिला डिग्री कॉलेज में लेक्चरर हैं।

criminals

special force

mla

 

कैसे आयी सुर्खियों में  

ज्योतिप्रिया सिंह, जालना के पहले  महाराष्ट्र के कोल्हापुर शहर में एडिशनल एसपी के पद पर कार्यरत थीं।कोल्हापुर में एडिशनल एसपी के पद पर रहते हुए आईपीएस ज्योतिप्रिया सिंह तब सुर्ख़ियों में आयीं जब उन्होंने  शिवसेना के उस समय के विधायक जेश क्षीरसागर और उनके समर्थकों पर छेड़छाड़ करने का केस दर्ज किया था।  दरअसल, गणेश विसर्जन के दौरान शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने लेडी पुलिस फोर्स की कुछ अफसरों से छेड़छाड़ की थी। इस बात से नाराज होकर ज्योतिप्रिया सिंह ने एमएलए क्षीरसागर पर केस दर्ज किया था। चुकी मामला एक विधायक था तो हर तरफ से उनपर दबाव बनाया गया लेकिन वो ज़रा नहीं घबरायीं और  पॉलिटिकल प्रेशर होने के बावजूद उन्होंने केस वापस नहीं लिया।

 

action

बाइक पर घूमकर की मनचलों की धुनाई

जब ज्योतिप्रिया कोल्हापुर में एडिशनल एसपी की पोस्ट पर तैनात थी तब उनके पास शहर की कई लड़कियां इस बात की शिकायत लेकर पहुंची थीं की आते जाते उन्हें छेड़छाड़ का शिकार होना पड़ता है, मनचलों की वजह से कहीं आना जाना मुश्किल हो गया है। 

फिर क्या था ज्योतिप्रिया ने मनचलों को सबक सिखाने के लिए खास ऑपरेशन शुरू किया, जिसमें वे अपनी टीम के साथ सिविल ड्रेस में बाइक पर घूम-घूमकर मनचलों को सबक सिखाती थी।

Image result for ips jyotipriya singh on Bike

Rahul Pandey

देश का सबसे अमीर शहर है मुंबई, यहां रहते हैं 46 हजार करोड़पति और 28 अरबपति

Previous article

बिहार पर सवाल उठाने से पहले महाराष्ट्र की इन तस्वीरों को भी देखो

Next article

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published.

Close Bitnami banner
Bitnami