क़र्ज़ और रिकवरी एजेंट से परेशान दो सगे किसान भाइयों ने दी जान

महाराष्ट्र के सतारा जिले मे दो सगे किसान भाइयों ने कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर लिया। घटना सतारा के वडगांव मे बीते रात की है। दोनों भाइयों ने खेती और खेती से जुड़े कामकाजों के लिए बैंक से 60 लाख रूपए का कर्ज लिया था,और बैंकों द्वारा किए जा रहे कर्ज वसूली से परेशान होकर अपनी जान दे दी।

कराड तालुका के वडगांव हवेली जगननाथ शिंदे और विजय शिंदे ये दोनों भाई उच्च शिक्षित है दोनों ने मिलकर कराड के दो बैंको से कुल 60 लाख रूपए का कर्ज लिया था। खेती में हुए नुकसान की वजह से दोनों भाई बेहद परेशान थे। वही मार्च के एंडिंग में बैंक का तकाज़ा बढ़ने लगा था और रिकवरी एजेंट भी परेशान कर रहे थे ।

बैंकों के बढ़ते तकाज़े से परेशान विजय ने कराड के विद्यानगर में जहर पीकर आत्महत्या कर लिया। वही इस घटना की जानकारी बड़े भाई जगननाथ को मिली तो जगननाथ ने भी कराड के ओगलेवाडी रेलवे रुट पर अपनी जान दे दी।जगननाथ और विजय ये दोनों भाइयों को दो दो लड़के है।

दोनों भाइयों के आत्महत्या की खबर जैसे ही मालूम पड़ा तो तबसे ही सतारा के कराड तालुका में मातम पसरा हुआ है। विजय ने बीएससी अग्रि से अपनी पड़ाही पूरी की थी। विजय और जगन नाथ ये दोनों भाई कड़ेगांव के एमआईडीसी में तेल का व्यापार करते थे। व्यापार में घाटा होने से काफी परेशान थे ,उतने बैंकों के बढ़ते तगादे से परेशान होकर दोनों ने अपनी जान दे दी।