Maharashtra/Goa

क़र्ज़ से परेशान किसान ने पहले की पत्नी की हत्या, फिर खुद भी ज़हर पीकर दी जान

0

अब तक महाराष्ट्र के लातूर ज़िले के किसान की बेटी की चिटा की आग अभी ठंडी भी नहीं हुई थी की अब एक और दिल झकझोर देने वाली खबर आ रही है। जालना का किसान क़र्ज़ इस क़दर परेशान हुआ की उसने अपने परिवार को ही ख़त्म कर डाला। इस बार भी पठकथा वही है सिर्फ किरदार बदल गया हैं।

जानकारी के मुताबिक़, जब कर्जदारों और साहूकारों ने पैसों के लिए दबिश बनाई तो महाराष्ट्र के जालना जिले के किसान  राम रणमले ने पहले तो पत्नी की हत्या की फिर खुद भी मौत को गले लगा लिया। घटना जालना ज़िले घनसावंगी तालुका के वाड़ीरामस गांव का है। गांव के किसानों के मुताबिक़ हाल के दिनों में राम रणमले बहुत परेशान चल रहा था। उसने खेती के लिए साहूकारों से क़र्ज़ लिया था लेकिन फसल पूरी तरह बर्बाद हो गयी थी। दूसरी तरफ फसल की बर्बादी के साथ साथ उसपर पैसे लौटाने के लिए दबिश बनाई जा रही थी। 

ख़ुदकुशी करने वाली इस बेटी का ये ख़त किसी का भी कलेजा दहला देगा​

पति पत्नी दोनों को समझ नहीं आ रहा था की आखिर पैसा कैसे चुकाया जाए। दोनों ने जाकर देनदार से समय भी माँगा मगर कोई रास्ता नहीं निकला। जिसके बाद दोनों ने एक बड़ा फैसला कर लिया। हारकर क़र्ज़ से परेशान राम रणमले अपनी पत्नी के साथ देर रात को खेत में बने कुएं की तरफ गया पहले अपनी पत्नी रत्नमाला को घर के पास कुएं में ढकेल दिया और फिर उसके बाद खुद जहर पीकर अपनी जान दे दी।

किसान रणमले के रिश्तेदारों ने पुलिस को बताया कि राम रणमले ने खेती के लिए कर्ज लिया था और काफी दिनों से कर्ज के तगादे से परेशान था, जिसके वजह से उसने अपनी जान दे दी। पुलिस को आत्महत्या के बाद राम रणमले के घर से कोई भी सुसाइड नोट बरामद नही हुआ है।

इस दर्द का कोई नाम नहीं !​

बीते कई दिनों में कर्ज से परेशान किसानों के आत्महत्या के कई मामले सामने आए है,और लगातार आत्महत्या के आंकड़े बढ़ते जा रहे जो चिंता का विषय है। अभी दो दिन पहले लातुर जिले में 21 वर्षीय शीतल वायल नामक किसान की लड़की ने अपने बाप के ऊपर से बोझ कम करने के लिए उसने कुए में कूद कर जान दे दी थी।

Rahul Pandey

पूर्व सीएम कामत की मुश्किल बढ़ी, अवैध खनन मामले में एसआइटी का समन

Previous article

सुचना आयुक्त रत्नाकर गायकवाड़ पर हमला

Next article

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published.

Close Bitnami banner
Bitnami