0

मुंबई: महाराष्ट्र की राजनीति में उठापटक का दौर जारी है. विधानसभा का कार्यकाल शनिवार को खत्म हो रहा है, मगर अब तक तय नहीं हो सका है कि सरकार कौन बनाएगा ? एक तरफ शिवसेना है जो 50-50 फॉर्मूले के तहत सीएम पद पर अड़ी है, दूसरी ओर बीजेपी है जो सीएम पद शिवसेना से बांटना नहीं चाहती है. शिवसेना ने तो अपने विधायकों को मुंबई के रंगशारदा होटल में रख दिया है ताकि किसी भी तरह की खरीद फरोख्त से वो बच सकें. वहीं देवेंद्र फडणवीस ने सीएम पद से इस्तीफा दे दिया. 

अब वक्त है कि बीजेपी सच बोले- उद्धव ठाकरेमैं दुष्यंत चौटाला की तरह बात नहीं करता जैसे उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधा था. गंगा को साफ करते हुए उनका दिमाग गंदा हो गया है. मैं RSS का सम्मान करता हूं. आरएसएस को फिर से सोचना चाहिए कि कैसा हिन्दुत्व चाहिए. हमने देखा है कि बीजेपी ने मणिपुर और गोवा में किस प्रकार से सरकार बनाई है. 

हमने उन्हीं से सीखा है. लेकिन हमने कभी झूठ बोलना नहीं सीखा. मुझे अगर बीजेपी झूठा बोलेगी तो बर्दाश्त नहीं करूंगा, एनसीपी और कांग्रेस से बातचीत नहीं हुई.हमने कभी भी चर्चा बंद नहीं की थी, जब मुझे पता चला कि बीजेपी समझौते से हट रही है, तब हमने बातचीत बंद की. हमने हमेशा अपना रुख साफ किया, अब वक्त है कि बीजेपी सच बोले.

शिवसेना झूठ बोलने वालों की पार्टी नहीं- उद्धवउद्धव ठाकरे ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस से ऐसे बयान की उम्मीद नहीं थी. बीजेपी भूल गई कि दुष्यंत चौटाल ने उनके लिए क्या कहा था. शिवसेना झूठ बोलने वालों की पार्टी नहीं है. मैंने कभी पीएम मोदी पर आरोप नहीं लगाए. मैं बीजेपी वाला नहीं हूं. झूठ नहीं बोलता. मैं झूठ बोलने वालों से बात नहीं करता. मैंने कभी दुष्यंत चौटाला जैसी भाषा का प्रयोग नहीं किया.

फडणवीस के बयान पर उद्धव का पलटवारदेवेंद्र फडणवीस के बाद उद्धव ठाकरे ने शिवसेना भवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे हैं. उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैं बाला साहेब की तरह सच के साथ खड़ा हूं. मुझ पर झूठ बोलने के  आरोप लग रहे हैं. अमित शाह बात करने मुंबई आए थे. मैंने सीएम पद को लेकर अमित शाह से स्पष्ट रूप से बात की थी. सबको पता है झूठ कौन बोल रहा है.

उद्धव-शिवसैनिकों से झूठ नहीं बोल सकता उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैंने भी अटल-आडवाणीजी की कभी आलोचना नहीं की है. अभी मैंने नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी नहीं की है, जब आलोचना की भी थी तो पॉलिसी की आलोचना थी, निजी आलोचना नहीं की. मैंने उनका (बीजेपी) का समर्थन इसलिए किया था क्योंकि देवेंद्र फडणवीस मेरे अच्छे मित्र हैं. क्या फैसला हुआ था इस बारे में मैं शिवसैनिकों से झूठ नहीं बोल सकता हूं. महाराष्ट्र की जनता को शिवसेना पर भरोसा है.

झारखंड चुनाव : महागठबंधन ने पहले चरण की 13 सीटों पर घोषित किये प्रत्याशी, राजद नाराज

Previous article

शरद पावर महाराष्ट्र में बनेंगे किंग मेकर ? शिवसेना और BJP के बीच आखिरी दिन भी नहीं बनी बात !

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.