MumbaiTop Stories

93 Blast special : आखिर क्यों आज भी नाना पाटेकर मानते हैं संजय दत्त को 93 धमाके का आरोपी

0

आज 93 बम धमाके को पूरे पच्चीस साल हो गए हैं। 25 साल पहले आज ही के द‍िन एक के बाद एक 12 धमाकों से मुंबई दहल उठी थी। इस सीरियल ब्लास्ट में 257 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 713 लोग घायल हुए थे। मामले की जांच कर मुंबई पुलिस ने इन धमाकों का मास्टरमाइंड दाऊद इब्राहिम कसकर और उसके साथियों को ठहराया था। कई लोग पकडे गए तो कई देश छोड़कर भाग गए, लेकिन 1993 में मुंबई में हुए बम ब्लास्ट के आरोप में संजय दत्‍त की गिरफ्तारी ने सबको चौका दिया था। इस मामले में संजय दत्त को आर्म्स एक्ट के तहत दोषी करार दिया गया था। जिसके बाद संजय ने अपनी सजा पुणे के येरवडा जेल में काटी।

इन 25 सालों में कई ऐसे ज़ख्म है जो आज भी नहीं भरे हैं। रह रह कर ये नासूर की तरह चुभते हैं। ऐसा ही एक ज़ख्म फिल्म एक्टर नाना पाटेकर के सीने के अंदर आज भी है। नाना किसी भी हालत में संजय दत्त को माफ़ नहीं करना चाहते हैं। उनका कहना है की वो किसी को सजा नहीं दे सकते लेकिन संजय दत्त की सजा उनकी तरफ से ये है को वो पूरी ज़िन्दगी उनके साथ काम नहीं करेंगे।

नाना का कहना है कि 1993 बम ब्लास्ट में संजय दत्त ने भले ही सजा काट ली हो लेकिन उनकी नज़र में आज भी दोषी हैं। इस लिए वो उनके साथ काम नहीं करेंगे।1993 में जो हुआ वो मैं भुला नहीं पा रहा हूँ। “मैंने इस हादसे में अपना भाई खोया था। उसका नाम भी वर्ली बेस्ट बस ब्लास्ट में मारे गए लोगों में था। संजय के साथ अपनी पूरी लाइफ में काम नहीं किया और ना ही भविष्य में उनके साथ काम करुंगा। संजय पूरी तरह से इसके लिए ज़िम्मेदार नहीं है लेकिन वो भी कहीं न कहीं शामिल तो थे ही।

1993 ब्लास्ट के बाद संजय दत्त के घर से 3 एके-56 राइफल, 9 मैगजीन, 450 कार्टरिज, एक 9mm की पिस्टल और 20 हैंड ग्रेनेड बरामद किए गए थे। इन्हें अबू सलेम, बाबा मूसा चौहान और समीर हिंगोरा ने इसे संजय के घर पर डिलीवर किया था। संजय दत्त को अप्रैल 19, 1993 को गिरफ्तार कर लिया गया। 2006 में उन्हें दोषी पाया गया, उन्हें 5 साल की सजा दी गई। इसके बात दायर याचिकाओं और सुनवाइयों का दौर चला। आखिर में संजय को फरवरी, 2013 में सजा दी गई और वो 2016 में यरवदा जेल से रिहा हो गए।

 

Farmer protest update : मुख्यमंत्री से मिलने पहुंचा किसानों का प्रतिनिधिमंडल

Previous article

किसान आंदोलन से डरे मुख्यमंत्री फडणवीस, लेकिन सांसद पूनम महाजन ने उन्हें नक्सली बताया

Next article

Comments

Comments are closed.

Close Bitnami banner
Bitnami