CrimeMaharashtra/GoaMumbaiTop Stories

बेटे के क़ातिलों को पकड़ने के लिए दो साल तक खुद की तफ्तीश,तब जाकर पकडे गए हत्यारे

0

ये कहानी किसी फ़िल्मी स्क्रिप्ट से काम नहीं है एक बेटे की हत्या कर दी गई और पुलिस ने उसे हादसा बनाकर फ़ाइल बंद कर दिए. लेकिन एक पिता ये मानने तो तैय्यार नहीं था की उसके बेटे के हादसे में मौत हुई. उसने अपनी नौकरी छोड़ी, घर छोड़ा और लग गया तफ्तीश में और आखिरकार पूरे दो साल बाद पिता ने ये साबित कर दिया की उसके बेटे का क़त्ल हुआ है और उसके क़ातिल कौन हैं.

4 नवम्बर 2016 को मीरा रोड में रहने वाले शब्बीर खान को ये खबर मिली थी की उसके 15 साल के बेटे मोहम्मद की ट्रैक पर ट्रेन की चपेट में आने से मौत हो गई. मोहम्मद मीरा रोड रेलवे स्टेशन से कुछ दूर रेलवे ट्रेक पर सेल्फी लेने गया था और हादसे का शिकार हो गया. उसके साथ गेट लड़को ने भी पुलिस को यही सुनाई और पुलिस ने बिना तफ्तीश किए जांच की फ़ाइल बंद कर दी.

लेकिन मोहम्मद के पिता शब्बीर को ये बात गले नहीं उत्तरी. उन्होंने कई बार पुलिस वालों से गुज़ारिश की, उन्हें ये शक था कि उनका बेटा सेल्फी के लिए इस तरह का काम नही करेगा.उसकी हत्या हुई और इसकी जांच की जाने चाहिए. मगर पुलिस भी कहाँ मानने वाली थी. शब्बीर ने हिम्मत नहीं हारी. पेशे से ड्राइवर शब्बीर ने अपना काम काज छोड़ कर दो सालो तक कि कड़ी जांच पड़ताल की और अपने बेटे मोहम्मद खान के हत्यारों को खोज निकाला है.

शब्बीर खान ने बताया कि उनका 15 साल का बेटा 4 नवम्बर 2016 को अपने दोस्त के साथ घर से थोड़ी दूर सड़क किनारे बने एक छोटे से गार्डन में खेलने गया था. जो रेलवे ट्रेक से थोड़ी दूरी पर मौजद है. देर शाम तक जब मोहम्मद खेल कर घर नही आया तो घर वालो ने उसकी काफी तलाश की और उसके दोस्तों से उसके बारे में पूछा. मगर उन्हें कही से भी कोई जवाब नहीं मिला. हारकर उन्होंने मीरा रोड पुलिस स्टेशन में मोहम्मद की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी. दूसरे दिन पुलिस से उन्हें जानकारी मिली कि मीरा रोड रेलवे स्टेशन से दूर उसी गार्डन के करीब ट्रेक पर एक लड़के की ट्रेन की चपेट में आने से मौत हो गई है.

जिसके बाद शब्बीर और उसके घर वाले भागते हुए रेलवे पुलिस के पास पहुंचे. वहां जाकर देखा तो शव उनके बेटे मोहम्मद का था. जिसके बाद गम में डूबे परिवार ने अपने बेटे का शव लेकर उसका अंतिम संस्कार किया. बेटे का शव मिलने के बाद से कही ना कही शब्बीर का दिल ये मानने को तैयार नही था कि उनका बेटा रेलवे ट्रेक पर क्यो गया.

पिता बना तफ्तीशकर्ता

घटना के बाद शब्बीर ने घटना स्थल से लेकर अपने घर तक आने और जाने वाले रास्ते मे लगे सभी सीसी टीवी के फुटेज खंगालना शुरू किया. तो पाया कि उनका मोहम्मद उनके ही इलाके के एक लड़के के साथ गार्डन की तरफ जा रहा है. और कुछ घन्टे बाद भागता हुआ अकेले घर की तरफ आ रहा है. जब शब्बीर ने अफजल ( बदला हुआ नाम ) से उस दिन के घटना के बारे पूछा तो उसने बताया कि गार्डन में खलते समय मोहम्मद गार्डन के बगल में बने गटर को पार कर सेल्फी लेने के लिए रेलवे ट्रेक पर गया था. मैंने उसे मना भी किया मगर वो नही माना जैसे ही मुहम्मद सेल्फी लेने लगा पीछे से आ रही ट्रेन ने उसे उड़ा दिया. घटना के बाद में काफी डर गया था इसलिए मैं वहां से भाग खड़ा हुआ.

अफजल से मिली जानकारी के बाद शब्बीर भी इसी को सच मान कर ये सोचने लगा कि अगर उन्होंने मोहम्मद के जन्म दिन पर उसकी जिद्द पर उसे अच्छी क्वालिटी का मोबाइल फोन नही लेकर देते तो शायद आज उनका बेटा जिंदा होता. मगर कही ना कही इस जानकरी के बाद भी शब्बीर को यह यकीन नही हो पा रहा था कि उसका बेटा एक सेल्फी के लिए 6 फुट से बड़ी खुली गटर को पार कर रेकवे ट्रेक पर जाएगा. अपनी मन की सुनते हुए शब्बीर ने अपने लेवल पर परिसर के लड़कों से पूछताछ शुरू की, क्योकि उनके बेटे मोहम्मद और कुछ स्थानीय ड्रगिस्ट बच्चो के बीच किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ था. और कुछ दिन पहले कुछ लड़के उनके इमारत के नीचे मोहम्मद को पीटने के लिए खोजने आए थे. इसी शक को लेकर शब्बीर ने बच्चो से बात कर जानकारी हासिल करना शुरू किया और दो सालो के कड़े संघर्ष के बाद आखिरकार शब्बीर के हाथों कुछ ऐसे सुराग हाथ लगाने लगे जिससे ये साबित होने लगा कि मोहम्मद की मौत हादसे में नही बल्कि ड्रग्स के पीड़ित कुछ स्थानीय बच्चो ने की है.

शब्बीर ने युवको से मिल रही जानकरी को चोरी छिपे अपने मोबाइल कैमरे में कैद कर उन युवको का पता लगा लिया जिन्होंने दुश्मनी निकलने के लिए मोहम्मद की हत्या कर उसके पास मौजूद पैसे और मोबाइल दोनों छीन लिया था. अपने बेटे के हत्यारों की कबूली और बाकी मिली जानकरी को जमा करने के बाद शब्बीर ने आरोपियों को पुलिस के समक्ष पेश कर उनके मुहं से उनके बेटे मोहम्मद की हत्या की पूरी सच्चाई से पुलिस के आला अधिकारियों को अवगत कराया.

विवेक अग्निहोत्री के खिलाफ भी तनुश्री दत्ता दर्ज करेंगी छेड़छाड़ की एफआईआर

Previous article

अब आलोक नाथ पर NCW की तलवार, NCW ने नोटिस भेजकर महाराष्ट्र DGP को जांच करने को कहा है

Next article

Comments

Comments are closed.

Login/Sign up
Bitnami