Mumbai

मुंबई में सोशल वर्कर का दावा घोटाला छुपाने के लिए ने बिल्डर ने दिए 11 करोड़ की रिश्वत

0

मुंबई में एक समाजसेवी ने एक बिल्डर का स्टिंग कर सनसनी फैला दी है। समाजसेवक संदीप येवले का आरोप है कि बिल्डर ने घोटाला छिपाने के लिए 11 करोड़ की रिश्वत देने की पेशकश की थी। बिल्डर घूस का एक करोड़ देने पहुंचा तो समाजसेवी ने स्टिंग ऑपरेशन कर दिया। सोशल वर्कडेर मीडिया के सामने घुस की एक बड़ी किश्त का हिस्सा लेकर पहुंचे थे और दावा किया था ये 40 लाख रुपए उस घुस का हिस्सा है जो बिल्डर की तरफ से उन्हें दी गयी थी। वहीं, आरोपी बिल्डर ने इन सभी आरोपों को झूठा बताया है।

आरोप लगाने वाले समाजसेवी संदीप येवले का भूमि नाम से एक एनजीओ । संदीप के मुताबिक, विक्रोली पार्क साइट इलाके में स्लम रिहैबिल्टेशन अथॉरिटी (SRA)के एक प्रोजेक्ट चल रहा था। इसके खिलाफ उन्होंने ओमकार बिल्डर के खिलाफ कई शिकायतें भी की थी। जिसके बाद उन्हें शांत करने और धांधली का खुलासा न करने के एवज में ओमकार बिल्डर की तरफ से घूस में 40 लाख रुपए दिए गए हैं। 

संदीप की मानें तो ओमकार बिल्डर की तरफ से पहले उनपर दबाव बनाने की कोशिश की गई थी जब वो नहीं मानें तो पैसों का ऑफर दिया गया। उन्हें पता था की उन्हें घुस की पेशकश होगी उसे देखते हुए मैंने पहले से तैयारी कर रखी थी। घुस का ये पूरा लेन देन उनके घर पर ही होना था। जब घुस की रकम देने बिल्डर के लोग जब उनके घर आए थे तब संदीप ने उनका स्टिंग ऑपरेशन कर लिया।संदीप द्वारा किये स्टिंग में दो लोग उन्हें 1000 और 500 के नोटों की गड्डियां से भरे पैकेट्स देते दिखाई दे रहे हैं। संदीप के मुताबिक, ये स्टिंग 31 मई का है। उनके मुताबिक़, इस 40 लाख से पहले भी आरोपी बिल्डर ने 60 लाख रुपये दिए थे। 

दरअसल मुंबई के विक्रोली इलाके के हनुमान नगर में करीब 64 हजार मीटर जमीन है।जो महाराष्ट्र हाउसिंग एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी यानी महाडा की है। उसी ज़मीन पर 15 सोसायटी हैं, जिसमें 2500 परिवार रहते हैं। उसी जगह पर स्लम रिडेवलपमेंट के अंतर्गत निर्माण होना था। उसे हासिल करने के लिए बिल्डर तमाम हत्कंडे अपना रहा था। ओमकार बिल्डर इस प्रोजेक्ट को हासिल करने के लिए तमाम नियमों को ताक पर रखकर काम कर रहा था।

संदीप का दावा है कि, बिल्डर ने उसे ये पैसे बस्ती के लोगों को उसकी तरफ लाने और धांदली के खिलाफ जो आरटीआई वो कर रहे थे उसे न करने के एवज में 11 करोड़ की घूस की पेशकश की गई थी। दूसरी तरफ ओमकार बिल्डर के डायरेक्टर कौशिक मोरे संदीप के आरोपों को बेबुनियाद बताया है। कौशिक का दावा है कि, जो कथित स्टिंग बताया जा रहा है वो पैसे दरअसल वहां रहने वालों को किराया बांटने के लिए संदीप को पैसे दिए गए थे।

 

हर रोज़ 18 ज़िन्दगियों को लील रहा है ये दानव, सरकार चुपचाप देख रही है

Previous article

जेल में हो रहा है महिला कर्मचारियों का यौन शोषण

Next article

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published.

Close Bitnami banner
Bitnami