MumbaiTop Stories

मुंबई पुलिस के इस जवान को सलाम ! अपना खून देकर बचाई जान

0

ऐसा बहुत कम होता है जब कोई खाकी वर्दी वालों की तारीफ़ करे. वो तब तक नहीं रुके जब तक वो थक नहीं जाता. मुंबई में एक शख्स है जो एक पुलिसवाले को भगवान से कम नहीं समझता है. नीलेश नागे पवई इलाके में सब्ज़ी बेचता है और अचानक उसकी पत्नी की तबियत बिगड़ गयी. डॉक्टरों ने उसे बताया की फ़ौरन उसे खून चढ़ाना पड़ेगा. वो भाग भाग कर कई लोगों से मदद मांगता रहा पर उसे निराशा हाँथ लगी. थक हारकर वो पवई पुलिस स्टेशन के आईआईटी चौकी पर पहुंचा. उस वक़्त वहां ड्यूटी पर गणेश कट्टे मौजूद थे.

नीलेश ने बस कॉन्स्टेबल गणेश कट्टे को सिर्फ इतना ही कहा,‘साहब, मेरी पत्नी अस्पताल में भर्ती है और उसे अगर खून नहीं मिला तो वह मर जाएगी. डॉक्टरों ने उसे ‘बी पॉजिटिव’ खून चढाने को कहा है. मैं हर जगह भागा मगर किसी ने मदद नहीं की. सब्जी वाले नीलेश नागे की बात सुनकर बिना वक़्त गवाएं कांस्टेबल गणेश कट्टे फ़ौरन उसके साथ न सिर्फ अस्पताल गए बल्कि खुद खून देकर उसकी पत्नी को भी बचाया.

नीलेश ने बताया कि, मामला 24 मार्च का है वो पवई के आईआईटी सब्जी बाजार में सब्जी बेचता है. उस दिन अचानक उसकी पत्नी को चक्कर आया और वह बेहोश होकर गिर पड़ी. वहां मौजूद लोगों ने उसे हीरानंदानी अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने खून की कमी बताते हुए तुरंत बी पॉजिटिव खून चढाने को कहा. मगर कहीं से भी उसे मदद नहीं मिली हारकर वो पुलिस चौकी पहुंचा था.

उसकी नज़र अचानक पुलिसकर्मी गणेश काटते पर पड़ी थी जिसे देखकर वो गिड़गिड़ाने लगा. जब गणेश ने उससे पुछा कि आखिर मामला क्या है तो उसने बताया कि, उसकी पत्नी अस्पताल में है और उसे खून चाहिए.गणेश काटते ने बताया कि, पहले मैंने नीलेश की बात सुनी फिर पुछा कि उसे कौन सा ब्लड ग्रुप चाहिए जैसे जी नीलेश ने ‘बी पॉजिटिव’ ब्लड ग्रुप बताया तो अचानक मुझे याद आया कि मेरा भी ब्लड ग्रुप तो बी पॉजिटिव है. मैंने वही किया जो एक इंसान को दूसरे इंसान कि ज़िन्दगी बचाने के लिए करना चाहिए.

FACEBOOK DATA LEAK: फरहान अख्तर ने फेसबुक से अपना अकाउंट डिलीट किया

Previous article

SHOCKING: इस एक्टर की घर के अंदर मिली लाश, शोक में इंडस्ट्री

Next article

Comments

Comments are closed.

Close Bitnami banner
Bitnami