Mumbai

पति से मोबाइल पर बात करते बाढ़ के पानी में बही लेडी, दो दिन बाद खाड़ी में मिली लाश

0

मुंबई और ठाणे में लगातार जोरदार बारिश में अब तक 12 लोगों की मौत हुई है। वहीं कल डाॅक्टर की लाश बरामद हुई थी। वहीं दो दिन पहले बाढ़ के पानी से रास्ते निकालते घर जा रही युवती बह गई थी उसकी लाश गुरूवार सुबह खाड़ी में मिली। यह महिला अपने पति से फोन पर बात करते हुए घर जा रही थी, उसका अचानक संपर्क टूट गया था।

घर से थोड़ी दूर पहुंचते ही हुआ हादसा…..

– दो दिन पहले 29 अगस्त को मुंबई और ठाणे में जोरदार बरसात हो रही थी। इसी दिन ठाणे के कोरम माॅल में जाॅब कर रही दीपाली बनसोडे (27) अपने घर जा रही थी।
-सड़कों पर कमर तक पानी भरा था, एेसे में दिपाली पानी में उतरी और घर की तरफ बढ़ने लगी। उसका घर थोड़ी ही दूरी पर था।
-वह पानी में उतरने के बाद पति से मोबाइल पर अपने लोकेशन का पता भी बता रही थी, तभी अचानक पानी के तेज बहाव में वह बह गई।
संपर्क टूटने से उसके पति को पता नहीं चला कि दीपाली के साथ क्या हुआ है। वह चिंतित हो गया। पिॆछले दो दिनों से दीपाली के घर वाले परेशान थे।
-इस बारे में वर्तक नगर पुलिस थाने में उसकी मिसिंग कंप्लेंट दर्ज कराई गई थी।
-कलवा विटावा खाड़ी में गुरुवार को एक लेडी की लाश मिली थी। इस बारे दिपाली के घर वालों को जानकारी दी तो उसे देखने पहुंचे तो वह दिपाली ही थी।
-पुलिस ने दिपाली की लाश को पोस्टमार्ट के लिए सिविल हाॅस्पिटल भेजा है।

12 साल बाद दिखा फिर वहीं मंजर

-चार दिनों से लगातार बरसात से 29 अगस्त की सुबह से मुंबई में ट्रैफिक की रफ्तार धीमी हो गई।
-वहीं सुबह से ट्रेन और विमान सेवा ठप हो गई। निचले इलाकों में पानी भर गया।
-कई रेलवे स्टेशन तो वाटर फाॅल में तब्दील हुए। लोग रेलवे स्टेशन, घर-आॅफिसों मे फंसे रहे।
– इस दौरान पांच लोगों की बाढ़ के पानी में बहने से मौत हुई। स्कूल काॅलेज और दफ्तरों को छुट्टी दी गई।
-वहीं पहली बार मुंबई नासिक, और पुणे मुंबई एक्सप्रेस वे पर मुंबई की ओर जाने वाले वाहनों को रोका गया।
– ट्रेनों की आवाजाही बंद होने से लोगों मुंबई से बाहर जाना मुश्किल हुआ। इससे बाहर से आने वाले लोग भी फंसे रहे।
-सांताक्रूज में 12 साल बाद सबसे ज्यादा 315 मिमी बारिश दर्ज की गई। वहीं कोलाबा में 101 मिमी बारिश दर्ज हुई।
-सांताक्रूज के अलावा अंधेरी, मुलुंड, बांद्रा, बोरिवली आदि इलाको में तेज बारिश से सड़कें, रेलवे ट्रैक पानी में डूबे, घर और दफ्तरों में पानी घुसा।
-12 साल पहले 26 जुलाई 2005 को भी तेज बरसात से आधी मुंबई पानी में डूबी थी, 509 मौतें हुई थी और पांच सौ करोड़ का नुकसान हुआ था।

Source: Dainik bhaskar

बिल्डिंग के मलबे में फंसी हैं जिंदगियां, अंदर से लगा रही हैं बचाने की गुहार

Previous article

मृतकों को 5 लाख रुपये की आर्थिक मदद देगी सरकार

Next article

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published.

Close Bitnami banner
Bitnami