बाबा की `सुसाइड सेना` की चीफ है हनीप्रीत; 20,000 लोगों दी गई थी ये ट्रेनिंग

राजस्थान के हनुमानगढ़ के सिपाही ओम बुडानिया को पंचकूला पुलिस ने हिरासत में लिया है। इस सिपाही पर राम रहीम को भगाने की कोशिश करने का आरोप है। इधर 22 दिन बाद भी उसकी कथित बेटी हनीप्रीत का कुछ पता नहीं चला है। गुरमीत राम रहीम के बीच की केमेस्ट्री को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि हनीप्रीत सिरसा डेरे में सुसाइड सेना की चीफ थी। इसमें शामिल लड़के और लड़कियां उसके एक इशारे पर जान देने और लेने के लिए हमेशा तैयार रहते थे।
– सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार राम रहीम की इस कथित सुसाइड सेना में करीब 20 हजार लड़के-लड़कियां शामिल थे। इन्हें खासतौर से ट्रेनिंग दी गई थी। आमतौर पर ये टुकड़ी भलाई के काम करने के लिए बनाया गया था, लेकिन ये पहचान सिर्फ बाहरी दुनिया के लिए थी। क्योंकि असल काम कुछ और था। राम रहीम के इशारे पर इस ब्रिगेड में भर्ती लोग किसी भी हद तक जा सकते थे।
– राम रहीम और हनीप्रीत के एक इशारे पर महिलाएं तक अपनी जान देने के लिए तैयार रहने कहा गया था। इस बात की पुष्टि उस रिपोर्ट में भी हुई थी जिसे राम रहीम की गिरफ्तारी से पहले खुफिया विभाग ने तैयार किया था। इसी के चलते हरियाणा और केंद्र सरकार ने हर कदम फूंक-फूंककर रखा। इस टुकड़ी की महिलाओं से आत्मदाह तक करने की तैयार रहने की हिदायत दी गई थी।
-बाबा के इशारे पर इसके भक्त कुछ भी करने को तैयार रहते थे। इस हद तक कि बाबा के इशारे पर अपनी जान तक दे सकते थे और अगर बाबा आदेश कर दे तो किसी की जान ले भी सकते थे। ऐसे सौ या फिर दो सौ नहीं बल्कि 20 हजार से ज्यादा भक्त थे।
दो दिन की रिमांड पर सिपाही
राजस्थान के हनुमानगढ़ के सिपाही ओम बुडानिया को पंचकूला पुलिस ने हिरासत में लिया है। पंचकूला जिला अदालत में आरोपी ओम बुडानिया को शनिवार को पेश किया। जहां अदालत ने बुडानिया को दो दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा है। पुलिस को बुडानिया से कई खुलासे कराने की उम्मीद है।
– ओम बुडानिया पिछले 12 सालों से बाबा की सुरक्षा में तैनात था। पुलिस को अंदेशा है कि बाबा को भगाने की साजिश में बुडानिया भी शामिल था। पुलिस बुडानिया से देशद्रोह सहित आर्म्स एक्ट के मामलों में पूछताछ कर सकती है।
देखें तसवीरें