Maharashtra/GoaNewsPoliticsTop StoriesTrending News

महाराष्ट्र: शिवसेना का आखिरी दांव, क्या 50-50 के फार्मूले मान जाएगी BJP?

0

मुंबई: महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर खींचतान अपने निर्णायक मोड़ में पहुंच गया है. 9 नवम्बर तक अगर कोई भी पार्टी सरकार बनाने के दावा पेश नहीं करती है. महाराष्ट्र में राज्यपाल राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग कर सकते हैं. लेकिन राष्ट्रपति शासन लगाने के पहले राज्यपाल अपने विवेक से राज्य में सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का न्योता दे सकते हैं.

ऐसे में बीजेपी के पास सरकार बनाने का मौक़ा तो जरूर है क्योंकि राज में सबसे बाड़ी पार्टी के तौर पर बीजेपी ही है. लेकिन जिस तरह से शिवसेना ने ‘अपना मुख्यमंत्री’ की मांग को लेकर विरोध जताया है. उससे साफ़ है कि बिना शिवसेना बीजेपी अकेले के दम पर राज्य में सरकार का गठन नहीं कर सकती है.

उसी लिहाज से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेताओं ने आज राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की. हालांकि, इस मुलाकात के दौरान बीजेपी ने सरकार बनाने का दावा पेश नहीं किया. बस सरकार बनने में देरी के बारे में बताया गया. लेकिन बीजेपी ने दावा नहीं कुइया मतलब साफ़ है कि वो सरकार बनाने नहीं जा रही है.

अब देखना ये है कि शिवसेना की तरफ से क्या एक्शन लिया जाता है? क्योंकि मातोश्री में भी विधायकों की बैठक का दौर जारी है. लेकिन कोई भी जानकारी बाहर निकल कर सामने नहीं आ रही है. हालांकि शिवसेना की NCP और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने की खबर जरूर जोर मार रही है. लेकिन शिवसेना शायद इसलिए आखिरी वक्त तक पत्ते नहीं खोलना चाह रही कि हो सकता है ऐन वक्त पर बीजेपी शिवसेना को बड़ा भाई मान ले और डैमेज कंट्रोल के तहत वो ढाई-ढाई साल के मुख़्यमंत्रियों की रणनीति यानी 50-50 के फार्मूले पर राज़ी हो जाए ????

मासूम बच्ची पर टूटा तेज रफ़्तार कार का कहर, जिंदगी-मौत के बीच कर रही है संघर्ष मासूम – देखें वीडियो

Previous article

अयोध्या पर फैसले से पहले CJI ने यूपी के DGP और चीफ सेक्रेट्री को किया तलब

Next article

Comments

Comments are closed.

Login/Sign up
Bitnami