0

दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में शनिवार को जब वकील और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसा हुई, उस दिन वकीलों में वहां वर्दी में मौजूद महिला पुलिस अधिकारी के साथ भी कथित तौर पर मारपीट की. इसी के साथ उसी दिन से उनकी लोडेड बंदूक भी लापता है. घटना के बाद सामने आई सीसीटीवी फुटेज में देखा जा सकता है कि वकीलों की भीड़ से बचने के लिए पुलिसवालों ने खुद को जिस कमरे में बंद कर रखा है, उसके बाहर वकील वाहनों को आग लगाने की कोशिश कर रहे हैं. 

झड़प के चार दिन बाद भी दिल्ली पुलिस ने अपनी महिला अधिकारी के मामले में कोई शिकायत दर्ज नहीं की है, जिनके साथ तीस हजारी कोर्ट में वकीलों ने मारपीट की. भारतीय पुलिस सेवा की महिला अधिकारी ने कथित तौर पर कहा कि उनकी लोडेड 9 एमएम सर्विस पिस्टल शनिवार से गायब है. लेकिन दिल्ली पुलिस ने कथित रूप से इसके लिए भी एफआईआर दर्ज करने से मना कर दिया.

आधिकारिक तौर पर, पुलिस का दावा है कि वे औपचारिक शिकायत के बिना कोई कार्रवाई नहीं कर सकते. लेकिन यौन उत्पीड़न के मामलों में पुलिस को खुद से कार्रवाई करने का अधिकार है.

एक अधिकारी ने बताया, ‘पुलिस पर जांच तेज करने और संवेदनशील मुद्दों को दबाने के लिए बहुत दबाव है. इसलिए जिन वरिष्ठ अधिकारियों को इन दोनों घटनाओं के बारे में बताया गया था, वे भी इस पर चुप हैं. वास्तव में, महिला अधिकारी को मामले को आगे न बढ़ाने के संकेत मिले हैं.’

आपको बता दें की बीते शनिवार को एक पुलिसवाले ने तीन वकीलों को गलत जगह पार्क की गई कार को हटाने के लिए कहा था, जिसके बाद विवाद हुआ. इसके बाद हुई हिंसा में 30 लोग जख्मी हो गए थे.सीसीटीवी फुटेज में भी वकील पुलिसकर्मियों परहमला करते हुए और बाइकों को आग लगाने की कोशिश करते हुए दिख रहे हैं. वहीं, पुलिसकर्मी आग पर पानी डालकर उसे बुझाते हुए दिख रहे हैं. वकील चाहते थे कि जिस पुलिस कांस्टेबल ने उनके साथियों को कार पार्क करने से रोका था, वह उन्हें सौंप दिया जाए.

मौके पर मौजूद एक अधिकारी ने याद करते हुए बताया, ‘वे (वकील) इतने गुस्से में थे कि कांस्टेबल को वर्दी बदलकर साधे कपड़े पहनने के लिए कहा गया.’ वर्दी बदलने के बाद गुस्साए वकीलों से बचने के लिए अपराधियों के साथ लॉकअप में बैठा दिया गया.

पानीपत के बाद Drama Comedy रकुल प्रीत के साथ दिखेंगे अर्जुन कपूर

Previous article

NotOut@50: सदी के महनायक की बॉलीवुड में हाफ सेंचुरी

Next article

You may also like

More in Crime

Comments

Comments are closed.