अपनी पार्टी को बचाने के लिए अब खुद राज ठाकरे उतरेंगे सड़क पर

महाराष्ट्र की राजनीति में हाशिये पर चल रही महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने अब पार्टी में नयी जान फुकने की कवायद शुरू कर दी है। इसके लिए खुद पार्टी प्रमुख राज ठाकरे सड़क पर उतरने जा रहे हैं। कई लोग इसे जूनियर ठाकरे का शक्ति प्रदर्शन भी कह रहे हैं। ये शक्ति प्रदर्शन किसी भी सूरत में फ्लॉप ना हो इसके लिए पार्टी ने पूरी तरह से कमर कस ली है।और यही वजह है की इस बार पार्टी ने मुद्दा भी मुंबईकरों से जुड़ा चुना है।

MNS प्रमुख राज ठाकरे जानते हैं की एलिफिस्टन ब्रिज पर हुए हादसा को सही तरीके से भुनाया जा सकता है। ताकि लोगों के बीच ये सन्देश जाए की MNS ही इकलौती पार्टी है जो मुंबई और मुंबईकरों के मुद्दे को सही से उठा सकती है। यही वजह है की राज ठाकरे ने हादसे के ठीक दूसरे दिन प्रेस कॉन्फ्रेंस के ज़रिये सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला। और ये भी एलान कर दिया की जब तक मुंबईकरों के लिए सुविधाएं नहीं होंगी मुंबई में बुलेट ट्रेन की कोई बात भी नहीं करेगा।

इसी सिलसिले में राज ठाकरे पांच अक्टूबर को चर्चगेट स्तिथ रेलवे दफ्तर पहुंचेंगे। कहा जा रहा है कि वो वहां अधिकारियों से मुलाक़ात कर एक बार फिर वही सारी बातें दोहराने वाले हैं जो उन्होंने अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कही थी। यानी अगर मुंबई में लोकल ट्रेन और प्लैटफॉर्मों की हालत नहीं सुधरी तो वो बुलेट ट्रेन भी नहीं चलने देंगे। राज ठाकरे किसी भी हालत में इस मुद्दे को भुनाना चाहते हैं।

वो जानते हैं की एलिफिस्टन हादसा मुंबई के लिए एक नासूर की तरह है जिसे जब जब कुरेदा जाएगा मुंबईकर सरकार को कोसेंगे। और अगर सरकार इसे गंभीरता से लेते हुए अपना काम करेगी तो इसका सीधा क्रेडिट वो लेंगे की ये उनके दबाव का नतीजा है की सरकार को झुक कर काम करना पड़ा।

यही वजह है की अपने इस प्रदर्शन को वो शक्ति प्रदर्शन में तब्दील करना चाहते हैं। इसी लिए उनके कार्यकर्ता घूम घूम कर लोगों से इस प्रदर्शन में शामिल होने की अपील कर रहे हैं। ताकि ये जताया जा सके की बड़ी संख्या में मुंबईकर उनके साथ आ रहे हैं।

 


Close Bitnami banner
Bitnami