राहुल गांधी का केंद्र सरकार पर तंज, पूछा- सरकार है या पुरानी हिंदी फिल्म का लालची साहूकार

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Congress Leader Rahul Gandhi) ने पेट्रोल (Petrol) और डीजल (Diesel) पर टैक्स को लेकर केंद्र पर निशाना साधते हुए उसकी तुलना पुरानी ‘‘हिंदी फिल्मों के लालची साहूकार’’ से की. राहुल गांधी ने कहा कि एक तरफ सरकार जनता को लोन लेने के लिए उकसा रही है तो वहीं दूसरी तरफ टैक्स वसूल कर मोटी कमाई करने में जुटी हुई है. यह सरकार नहीं बल्कि साहूकार वाला रवैया है.

इससे पहले लोकसभा को सूचित किया गया था कि पिछले वित्त वर्ष में पेट्रोल और डीजल पर केंद्र सरकार का कर संग्रह 88 प्रतिशत बढ़कर 3.35 लाख करोड़ रुपये हो गया. लोकसभा को इस संबंध में सूचित किए जाने के एक दिन बाद राहुल गांधी ने ट्वीट करके केंद्र की आलोचना की.

राहुल गांधी ने हैशटैग ‘टैक्सएक्सटोर्शन’ (जबरन कर वसूली) का इस्तेमाल करते हुए ट्वीट किया, ‘‘एक तरफ जनता को ऋण लेने के लिए उकसा रहे हैं, दूसरी तरफ कर वसूली से अंधाधुंध कमा रहे हैं. सरकार है या पुरानी हिंदी फिल्म का लालची साहूकार?’’

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस राज्य मंत्री रामेश्वर तेली (Rameshwar Teli, Minister of State in the Ministry of Petroleum and Natural Gas) ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में जानकारी दी कि वित्त वर्ष 2020-21 में पेट्रोल एवं डीजल पर उत्पाद शुल्क का संग्रह बढ़कर 3.35 लाख करोड़ रुपये हो गया जो इससे एक साल पहले 1.78 लाख करोड़ रुपये था. रामेश्वर तेली के मुताबिक, 2018-19 में पेट्रोल-डीजल पर उत्पाद शुल्क के जरिए 2.13 लाख करोड़ रुपये के राजस्व का संग्रह हुआ था.


Close Bitnami banner
Bitnami