जल रहा है महाराष्ट्र बीजेपी का दावा ख़त्म हो गया किसान आंदोलन

मुख्यमंत्री जी ज़रा इन पोस्टर्स को देखिये, आपकी ही पार्टी के लोगों ने लगाया है दावा किया जा रहा है की मुख्यमंत्री की वजह से किसान आंदोलन ख़त्म हो गया है।BJP सरकार ने किसानों के कर्जमाफी का फैसला किया है।

मुख्यमंत्री जी अगर ऐसा है ? तो फिर आखिर नाशिक में महज़ 24 घंटों में दो किसानों ने ख़ुदकुशी क्यों कर ली दोनों भी बढ़चढ़कर किसान आंदोलन में शामिल थे । उम्मीद टूटी तो ज़िन्दगी की डोर भी तोड़ डाली अब आप ये भी बता दीजिये की आन्दोलन ख़त्म हो गया तो अहमदनगर में पुलिस ने किसानों पर लाठियां क्यों बरसा रही है और तो और मुंबई में आने वालों दूधों की टैंकरों को z श्रेणी की सुरक्षा क्यों दी जा रही है।

अगर किसानों के इस मुद्दे को ख़त्म नहीं किया जा सकता है तो कम से कम लोगों को गुमराह भी मत कीजिए ! पार्टी को बताइये की महाराष्ट्र में किसानों की क़र्ज़ माफ़ी का मुद्दा बेहद संवेदनशील है वो इससे खिलवाड़ न करें, झूठे प्रोपगेंडा न फैलाएं।

कर्जमाफ़ी को लेकर पिछले 6 दिनों से किसानों का आंदोलन जारी है। किसान अपने हक़ के लिए सड़क पर गला फाड़ रहे हैं।
महाराष्ट्र के कई जिलों में किसान आंदोलन ने हिंसक रूप धारण कर लिया है। एक जिले से दूसरे जिले में सब्जियां और खाने पिने के समान की सप्लाई नहीं हो पा रही, जिसकी वजह से सब्जियों के दाम आसमान छू रहे है, और सरकार ने अभी तक इसका कोई भी हल नहीं निकाला है, लेकिन इसके पहले ही मुंबई में भाजपा ने बैनरबाजी करना शुरू कर दी है।

 

मुंबई के बैनर लगाया गया है जिसमे लिखा है ” किसान आंदोलन समाप्त हुआ ” इस नाम का बैनर लगाकर भाजपा मुंबई में बैनरबाजी कर रही और बैनर में किसान और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की फोटो भी लगी हुई है जिसमे किसान मुख्यमंत्री को किसान की समस्या का हल निकालने पर बधाई दे रहा है।

इन तमाम परिस्थितियों के बाद भी आपको लगता है की हल निकाला जा चूका है तो फिर ठीक है आगे फैसला जनता ही करेगी।


Close Bitnami banner
Bitnami