मंच पर भाषण देने पहुंचे CM फडणवीस, लेकिन झेलनी पड़ी शर्मिंदगी

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कभी सपनों में भी नहीं सोचा होगा की किसी कार्यक्रम में उन्हें अपमानित किया जाएगा। वो भी जब कार्यक्रम का आयोजन उनके ही पार्टी के लोगों द्वारा किया गया हो,वो भी उस जिले में जहाँ से वो चुनकर आते है। कल नागपुर में मुख़्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ ऐसा ही कुछ हुआ है। भाजपा कोटे से राज्यसभा सांसद विकास महातमें द्वारा धनगर निर्णायक रैली का आयोजन किया गया था। इस रैली में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के अलावा गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर,मिनिस्टर चंद्रशेखर बावनकुले और धनगर समुदाय के नेता व पशुपालन मंत्री महादेव जांकर भी शामिल थे। मुख़्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस समाज के लोगों को सम्बोधित करने के लिए माइक थाम ही रहे थे। लेकिन आयोजनकर्ताओं ने सीएम के भाषण से पहले कुछ गाने बजाने की बात कही।

आयोजनकर्ताओं का कहना था धनगर आरक्षण के मुद्दे को लेकर अब तक के सफर को एक गाने के जरिये हम आप लोगों से साझा करना चाहते है। अपने सफर को याद करते हुए सबसे पहले आयोजनकर्ताओं ने एक के बाद एक गाने चलाए। मुख्यंमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने चुनाव के समय धनगर समाज के लोगों से वादा किया था कि सत्ता में आने के बाद उन्हें आरक्षण दिया जाएगा। इस वादे को उन्हें याद दिलाने के लिए आयोजनकर्ताओं एक गाना और बजाय उस गाने का नाम था ” क्या हुआ तेरा वादा ” इस गाने को सुनकर खुद मुख्यमंत्री फडणवीस अचंभित रह गए। वही रैली में मौजूद लोग ताली बजाकर ठहाके मारकर मुख्यमंत्री पर हंसने लगे।

इस गाने को सुनते ही सीएम का चेहरा उतर गया लेकिन वो कर भी क्या सकते थे। जल्द ही उन्होंने खुद को संभालते हुए धनगर समुदाय का मशहूर नारा “यालकोट मलहार” दे डाला। इसके बाद भाषण देते हुए सीएम फडणवीस ने कहा कि “मैं अपना वादा नहीं भूला हूं, और दिसंबर के बाद आरक्षण की प्रकिया शुरु हो जाएगी”। बता दें कि सीएम फडणवीस ने तीन साल पहले चुनाव प्रचार के समय धनगर समुदाय से वादा किया था कि वे सत्ता में आने के बाद पहली कैबिनेट की बैठक में वे धानगर लोगों के आरक्षण के प्रस्ताव को पास कराएंगे लेकिन अभीतक सरकार ऐसा नहीं कर पाई है।


Close Bitnami banner
Bitnami