Politics

कोविंद के खिलाफ मीरा कुमार होंगी अपोजिशन की प्रेसिडेंशियल कैंडिडेट

0

प्रेसिडेंशियल कैंडिडेट को लेकर अपोजिशन 16 पार्टियों की मीटिंग गुरुवार शाम को दिल्ली में हुई। मीटिंग में पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार को यूपीए का प्रेसिडेंट कैंडिडेट चुना गया। एनडीए ने रामनाथ कोविंद को प्रेसिडेंट कैंडिडेट चुना है, जो कि दलित हैं। ऐसे में यूपीए ने भी मीरा कुमार को चुनकर प्रेसिडेंट इलेक्शन में दलित कैंडिडेट उतार दिया है। मीरा कुमार पूर्व उप प्रधानमंत्री जगजीवन राम की बेटी हैं। लेफ्ट ने की कांग्रेस और अपोजिशन पार्टियों से बात…

– इससे पहले लेफ्ट ने कांग्रेस और नॉन-एनडीए पार्टियों के साथ अपने प्रेसिडेंट कैंडिडेट को लेकर अनौपचारिक मशविरा किया था, ताकि प्रेसिडेंट कैंडिडेट के लिए राय जानी जा सके।
– पहले CPM ने कहा था, “हम प्रकाश अंबेडकर के बारे में सोच रहे हैं। अगर कांग्रेस और दूसरी अपोजिशन पार्टियां राजी होती हैं, तो हम उन्हें प्रेसिडेंट इलेक्शन के लिए खड़ा करेंगे। हम इलेक्शन जीतने की उम्मीद नहीं कर रहे हैं, ये एक पॉलिटिकल कॉन्टेस्ट है।”
– बता दें कि प्रकाश (63) महाराष्ट्र के अकोला से सांसद थे और भारिप बहुजन महासंघ के लीडर हैं।

सोनिया के लंच में शामिल हुई थीं 16 पार्टियां
– 26 मई को सोनिया गांधी ने विपक्षी नेताओं के लिए लंच होस्ट किया था। इसमें विपक्ष की 16 पार्टियां शामिल हुई थीं।

1. कांग्रेस: सोनिया गांधी, राहुल गांधी, मनमोहन सिंह, 2. एनसीपी- शरद पवार, 3. सीपीआई(एम) – सीताराम येचुरी , 4. सीपीआई- डी राजा , 5 आरजेडी- लालू प्रसाद यादव, 6. टीएमसी- ममता बनर्जी , 7. बीएसपी- मायावती , 8. एसपी – अखिलेश यादव 9. डीएमके- कनिमोझी, 10. जेडीयू- शरद यादव। नीतीश कुमार नहीं पहुंचे, 11. एआईयूडीएफ- बदरुद्दीन अजमल, 12. जेडीएल- एचडी देवगौड़ा, 13. इंडियन यूनियन ऑफ मुस्लिम लीग, 14. झारखंड मुक्ति मोर्चा, 15. केरल कांग्रेस, 16. नेशनल कॉन्फ्रेंस।
(नोट- 17. बीजू जनता दल, 18. तेलंगाना राष्ट्रीय समिति, 19. एआईएएमडीके सोनिया के लंच में शामिल नहीं हुईं।)

कोविंद के सपोर्ट में JDU
– रामनाथ कोविंद को टीआरएस, बीजेडी, AIADMK, YSR कांग्रेस, शिवसेना के बाद अब जेडीयू का भी सपोर्ट मिल गया है। स्पोक्सपर्सन केसी त्यागी ने बुधवार शाम को कहा कि कोर कमेटी की मीटिंग में कोविंद के समर्थन का फैसला लिया गया है। जानकारों की मानें तो एनडीए के पास राष्ट्रपति चुनाव में हिस्सा लेने वाले इलेक्टोरल कॉलेज के 57.85% वोट हैं। लिहाजा, कोविंद आसानी से अगले राष्ट्रपति बन जाएंगे। अगर अपोजिशन अपने कैंडिडेट को उतारने का फैसला करता है तो भी कोविंद के राष्ट्रपति बनने में दिक्कत पेश नहीं आएगी।

TRS, AIADMK और वाईएसआर कांग्रेस ने भी दिया एनडीए को समर्थन
– टीआरएस, एआईएडीएमके और वाईएसआर कांग्रेस ने एनडीए को समर्थन देने का एलान कर दिया है।
– टीआरएस के 1.99%, एआईएडीएमके के 5.39% और वाईएसआर कांग्रेस के 1.53% वोटों की मदद से एनडीए के पास 57.85% वोट हो गए हैं। बीजेडी ने एनडीए को सपोर्ट करने का फैसला किया है। बीजेडी के पास 2.99% वोट हैं।

इन दो दलों ने भी दिए UPA से अलग होने के संकेत
1) BSP: मायावती ने कहा है कि यूपीए अगर कोविंद से बेहतर दलित कैंडिडेट उतारे तो बीएसपी उस पर विचार करेगी। ऐसा नहीं होने पर वह कोविंद को सपोर्ट करेगी। बीएसपी के 0.86% वोट हैं।
2) SP:मुलायम सिंह भी एनडीए उम्मीदवार को सपोर्ट कर सकते हैं। ऐसा हुआ तो 2.37% के वोट भी एनडीए को मिलेंगे।
– जेडीयू के पास 1.91%. सपा का 2.37% और बसपा के पास 0.86% वोट हैं। अगर ये पार्टियां भी सपोर्ट करती हैं तो एनडीए के पास इलेक्टोरल कॉलेज के 65.98% वोट हो जाएंगे।

ऐसे होगा राष्ट्रपति चुनाव
# 4896 वोटर राष्ट्रपति चुनाव में हिस्सा ले सकेंगे। इनमें 4120 MLAs और 776 MPs शामिल हैं।
# 20 AAP के विधायकों के खिलाफ हाउस ऑफ प्रॉफिट के मामले में केस चल रहा है, लेकिन इलेक्शन कमीशन का कहना है कि आज की बात करें तो ये लोग वोट डाल सकेंगे।
# 12 नॉमिनेटेड राज्यसभा मेंबर्स भी वोट नहीं डाल सकेंगे। इसके अलावा, लोकसभा में दो एंग्लो-इंडियन कम्युनिटी के नॉमिनेटेड मेंबर्स भी वोट नहीं डाल सकेंगे।
# 10 खाली सीटें हैं राज्यसभा की, जिनके लिए चुनाव की घोषणा राष्ट्रपति चुनाव के बाद ही की जाएगी।

कितने वोट जरूरी
– टोटल MLAs: 4114
– टोटल MPs: 776
– MLAs की वोट वैल्यू: 5,49,474
– MPs की वोट वैल्यू: 5,48,408
– टोटल वोट वैल्यू: 10,98,882
– किसी भी दल को अपनी पसंद का प्रेसिडेंट बनाने के लिए 50% यानी 5,49, 442 वोटों की जरूरत है।

NDA के पास पहले कितने वोट थे?
– लोकसभा, राज्यसभा, स्टेट असेंबली को मिलाकर टोटल 5,27,371 वोट होते हैं। कोविंद के एलान से पहले एनडीए का टोटल वोट पर्सेंटेज 48.10% है।

UPA के पास कितने वोट हैं?
– साझा कैंडिडेट उतारने की स्थिति में सभी अपोजिशन पार्टियां एक हो जाती हैं तो टोटल वोट 5,68,148 होंगे यानी करीब 51.90%।

source dainik bhaskar

तो ये वजह है ! शिवसेना कर रही बीजेपी का समर्थन

Previous article

नवघर पुलिस ने सीसीटीवी की मदद से बाइक चोर को किया गिरफ्तार

Next article

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published.

Close Bitnami banner
Bitnami