Politics

MNS का हिंदी भाषियों के बाद गुजरती पर निशाना

0
राज ठाकरे की पार्टी एमएनएस एक बार फिर अपने ‘मराठी कार्ड’ मुद्दे के साथ सड़क पर उतर आई है। हिंदी भाषियों के बाद अब उनके निशाने पर गुजराती  है। पार्टी कार्यकर्ताओं ने आज सड़क पर उतरकर प्रभादेवी इलाके में उन दुकानों से साइन बोर्ड उतरवा दिए जो गुजरती भाषा में लिखे हुए थे। एमएनएस कार्यकर्ताओं का आरोप है कि महाराष्ट्र में रहकर गुजरात का गाना  गाना मराठी भाषा का अपमान है। पार्टी ने चेतावनी भी दी है कि अगर मराठी की जगह दूसरी प्रादेशिक भाषाओं का इस्तेमाल किया जाएगा कार्यकर्ता आंदोलन करेंगे और ‘मनसे स्टाइल’ में विरोध करेंगे।
दरअसल कुछ दुकानों में व्यवसाइयों ने अपने दुकानों के साइन बोर्ड गुजरती में लिख कर लगवा रखे थे। MNS का इसी को लेकर विरोध है। उनके नेता संतोष धुरी के मुताबिक, आप रहते है महाराष्ट्र और मुंबई में और दुकानों पर गुजरती भाषा का कैसे इस्तेमाल कर सकते हैं। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना मराठी भाषा का अपमान नहीं सह सकती है। जो कोई भी यहाँ रहते है उसे महाराष्ट्र और मराठी अस्मिता का पूरा सम्मान करना होगा।
हालाकिं दुकानदारों का ये कहना था कि उन्होंने गुजरती भाषा का इस्तेमाल इस लिए किया है क्यूंकि उनके ज़्यादातर कस्टमर गुजरती हैं। और ऐसा करने का उनका मकसद मराठी भाषा का अपमान करना बिलकुल नहीं था।

महिलाओं का पॉश टॉयलेट बन गया शराबियों का अड्डा

Previous article

जर्जर इमारतों का जिंदा कब्रिस्तान है ये शहर, 5 लाख से ज्यादा लोग रहने को मजबूर हैं

Next article

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published.

Close Bitnami banner
Bitnami