नारायण राणे का कांग्रेस से इस्तीफा, भाजपा में हो सकते है शामिल

कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेता महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे ने आखिरकार कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे ही दिया है। राणे ने इस्तीफे का एलान अपने गड सिंधुदुर्ग से किया है। बताया जा रहा है की नारायणा राणे ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी को ईमेल के जरिये अपना इस्तीफा सौपा है। लंबे समय से ये कयास लगाया जा रहा है की राणे अपने बेटे और समर्थकों के साथ का बीजेपी में शामिल होंगे।

अगर सूत्रों की मानें तो  जल्द ही महाराष्ट्र सरकार 5 या 6 अक्टूबर को कैबिनेट विस्तार करने जा रही है। और इस नए विस्तार में नारायण राणे कैबिनेट में जगह मिल सकती है। बीजेपी में शामिल होने से पहले राणे ने अपने और अपने बेटों के लिए कई शर्तें रखीं थी। कहा जा रहा है की ज़्यादातर मांगो BJP आला कमान ने मान ली है की उच्च पर अभी भी बात चल रही है। लेकिन इसके साथ बीजेपी में अंदर विरोध भी शुरू जो गया है।

राणे के इस्तीफे से पहले ही महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने पार्टी के सिंधु दुर्ग इकाई को भंग कर दिया था। जिसके बाद राणे ने सोमवार को सिंधु दुर्ग के कुडाल में अपने समर्थकों के साथ शक्तिप्रदर्शन किया था। इस शक्तिप्रदर्शन के दौरान नारायण राणे अपने समर्थकों के साथ 200 कारों के काफिले में वहां पहुंचे थे।

तो दूसरी तरफ राणे के बेटे और कांग्रेस विधायक नीतेश राणे ने साफ़ कर दिया है वो अभी भी कांग्रेस में ही रहेंगे। जब राणे अपने इस्तीफे की घोषणा कर रहे थे तब नीतेश प्रेस कांफ्रेंस में भी मौजूद नहीं थे। इतना ही नहीं जूनियर राणे ने भी दावा किया था कि शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे के पर्सनल सेक्रेटरी मिलिंद नार्वेकर ने राणे फैमिली को शिवसेना में शामिल होने का ऑफर दिया था।


Close Bitnami banner
Bitnami