नाथूराम महापुरुष नहीं महापुरुष का हत्यारा है

मुंबई से सटे कल्याण में बन रहे नाथूराम गोडसे के स्मारक को लेकर विधानसभा में जमकर हनगम हुआ। विपक्ष की ओर से विधानपरिषद में कांग्रेस सदस्य संजय दत्त व सदन में विपक्ष के नेता धनजंय मुंडे ने मुद्दा उठाया। संजय दत्त का आरोप है की बीजेपी सरकार के मुँह में राम है और दिल में नाथूराम गोडसे। तभी तो कल्याण में गोडसे स्मारक बनाया जा रहा है और सरकार खुद को अनजान बता रही है।

कल्याण में हिंदू महासभा की तरफ से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे का स्मारक के लिए राजस्थान से गोडसे की मूर्ति लाई जाने वाली है। ऐसा कैसे संभव है की इसकी जानकारी सरकार को नहीं है। उनका आरोप था की जो भी किया जा रहा है वो सरकार की शह पर हो रहा है। खुद मुख्यमंत्री को इस बारे में जवाब देना चाहिए।

सरकार की तरफ से प्रदेश के राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटील ने कहा कि सरकार इस मामले की जांच कराएगी। राजस्व मंत्री पाटील के मकुताबिक,  गोडसे क्या किसी का भी स्मारक बनाना संभव ही नहीं है, क्योंकि स्मारक बनाने के लिए राज्य सरकार की लंबी प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है।

हर स्मारक के लिए सरकार के पास उसकी पूरी सूची रहती है। कभी भी कोई किसी का स्मारक नहीं लगा सकता, इसके लिए  सरकार की अनुमति भी जरूरी होती है। वहीँ सदन में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे ने सरकार को याद दिलाते हुए कहा कि यह जान लेना चाहिए नाथूराम महापुरुष नहीं महापुरुष का हत्यारा है।


Close Bitnami banner
Bitnami