0

पुणे: महाराष्ट्र के पुणे जिले से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है. जहां मराठी फिल्म सैराट की कहानी दोहराई गई है. दरअसल मंगेश और रुक्मिणी ने शायद ही कभी सोचा होगा कि उनका सजीला सपना ऐसे टूट जाएगा. रुक्मिणी और मंगेश भी साथ रहना चाहते थे. पूरी उम्र. एक दूसरे के सामने बूढ़े होना चाहते थे. प्यार किया और शादी कर ली. पिछले साल दोनों ने साथ-साथ अपनी पहली दिवाली मनाई.

रुक्मिणी के घरवाले इस शादी के ख़िलाफ़ थे. लेकिन प्यार में एक अलग ही ताक़त होती है. रुक्मिणी ने मंगेश से पिछले साल शादी कर ही ली. मंगेश पेशे से मकान मिस्त्री हैं. जब दोनों ने शादी करने की ठानी तो रुक्मिणी के घरवालों ने ज़बरदस्त विरोध किया. वो किसी कीमत पर ये शादी नहीं होनी देना चाहते थे. जब शादी हुई तो मंगेश के घरवाले मौजूद थे, जबकि रुक्मिणी की तरफ़ से उनकी मां आई थीं.

महाराष्ट्र के पुणे जिले से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है. जहां मराठी फिल्म सैराट की कहानी दोहराई गई है. दरअसल मंगेश और रुक्मिणी

30 अप्रैल को मंगेश के साथ रुक्मिणी अपने माता पिता के घर गई थीं. जब मंगेश रुक्मिणी को लेकर वापस आने लगे तो रुक्मिणी के पिता और चाचा ने रुक्मिणी को मंगेश के साथ भेजने से मना कर दिया. मंगेश और रुक्मिणी के घरवालों के बीच बहस हुई और फिर वही हुआ जो नहीं होना चाहिए था. एक कमरे में रुक्मिणी और मंगेश को बंद करके पेट्रोल डाला गया और ज़िंदा जला दिया गया. पड़ोसियों ने चीख सुनी तो दोनों को अस्पताल पहुंचाया.

इसी मई महीने की पहली तारीख को अहमदनगर ज़िले में रुक्मिणी और मंगेश ज़िंदा जला दिए गए. मंगेश का आधा और रुक्मिणी का तीन चौथाई शरीर जल गया. दोनों को अस्पताल लाया गया. रुक्मिणी नहीं बच सकीं. मंगेश अभी ज़िंदा हैं. जब दोनों जल रहे होंगे तो ज़रूर रुक्मिणी ने भगवान से प्रार्थना की होगी कि उसका मंगेश बच जाए. मंगेश का इलाज उसी अस्पताल में चल रहा है. लेकिन रुक्मिणी के साथ एक जान और गई है. रुक्मिणी प्रेग्नेंट थीं. इस दुनिया को भुगतने से पहले ही उनका बच्चा मारा गया.

WATCH : महिला मरीज के सूप में निकली खून से सनी पट्टी, अस्पताल की बड़ी लापरवाही या सजिश ?

Previous article

VIDEO :खत्म हो रही है ‘सेहरी’ के लिए जगाने की मजबूत रवायत

Next article

You may also like

More in Crime

Comments

Comments are closed.