0

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने निर्देश जारी करते हुए कहा था कि राज्य में किसी भी तरह से होर्डिंग नहीं लगाए जाएंगे। हालांकि, उनके खुद के मंत्री के ही होर्डिंग इंदौरकी सड़कों पर लगे नजर आए। इतना ही नहीं, जैसे कि सीएम के आदेश थे तो निगमकर्मी उन होर्डिंग को हटाने पहुंच गए, जहां फिर कुछ ऐसा हुआ कि एक बार फिर से भाजपा के प्रमुख नेता और महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे आकाश विजयवर्गीय की याद आ गई। जब उन्होंने निगम अधिकारी को बैट से पीटा था।

ऐसा ही अब एक और वीडियो सामने आया है, जिसमें स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के जन्मदिन की बधाई के लिए लगाए गए होर्डिंग हटाने पहुंचे नगर निगम कर्मचारी को मंत्री का एक समर्थक लाठी से पीटता व दूसरा थप्पड़ मारता दिख रहा है। वहीं, एक संबंधित वीडियो में मंत्री का एक रिश्तेदार नगर निगम अधिकारी को धमकाता हुआ भी दिख रहा है।

कमलनाथ के निर्देश

सीएम कमलनाथ के ऑफिस की तरफ से ट्वीट जारी करते हुए कहा गया था कि बगैर अनुमति के सार्वजनिक स्थानों पर लगे होर्डिंग, पोस्टर, बैनर को लेकर मैंने कड़ा निर्णय लेते हुए ,स्पष्ट रूप से निर्देश दिए है कि प्रदेश भर से इन्हें तत्काल हटाया जाए। होर्डिंग पर यदि मेरे भी फोटो लगे हो तो उन्हें भी हटाने में जरा भी संकोच ना बरता जाए।

वहीं, उन्होंने एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि प्रदेश की सुंदरता पर इन अवैध होर्डिंग, पोस्टर, बैनर के कारण दाग लग रहा था, इनसे आए दिन हादसे व दुर्घटनाएं भी घटित हो रही थी, इन सब को दृष्टिगत रखते हुए मैंने यह सख्त कदम उठाया है। ऐसा कोई सार्वजनिक स्थल नहीं था , जहां पर ये अवैध होर्डिंग नजर ना आते हो।

राज्य के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने निगमकर्मी की पिटाई को लेकर राज्य सरकार पर गंभीर आरोप लगाए और साथ ही कड़े शब्दों का इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा कि इसको कानून की धज्जियां उड़ाना कहते हैं। जब मंत्री और उसके समर्थक ही कानून और व्यवस्था का सम्मान ना करें, बेलगाम हों, तो किसी और से क्या उम्मीद की जाए , इसके अलावा भी उन्होंने सरकार के खिलाफ बेशर्म और उसमें(सरकार) बददिमाग मंत्री और उनके समर्थक का भी जिक्र किया।

राज्य के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने निगमकर्मी की पिटाई को लेकर राज्य सरकार पर गंभीर आरोप लगाए और साथ ही कड़े शब्दों का इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा कि इसको कानून की धज्जियां उड़ाना कहते हैं। जब मंत्री और उसके समर्थक ही कानून और व्यवस्था का सम्मान ना करें, बेलगाम हों, तो किसी और से क्या उम्मीद की जाए! , इसके अलावा भी उन्होंने सरकार के खिलाफ बेशर्म और उसमें(सरकार) बददिमाग मंत्री और उनके समर्थक का भी जिक्र किया। वहीं, उन्होंने बाद में सवाल पूछते हुए कहा कि क्या मेरे प्रदेश को अराजकता के अंधकार में झोंककर ही दम लेंगे।

जब कुख्यात अपराधी हुआ सामना तो फूस्स हो गई उत्तर प्रदेश पुलिस, बच निकला हिस्ट्री शीटर – BJP नेता की हत्या में था वांटेड

Previous article

बाबरी मस्जिद vs अयोध्या विवाद : पीएम मोदी ने अपने मंत्रियों से कहा- अयोध्या पर अनावश्यक बयानबाजी से बचें, बनाए रखें सौहार्द

Next article

You may also like

More in Crime

Comments

Comments are closed.