0

शोएब अख्तर ने सौरव गांगुली को बीसीसीआई का नया अध्यक्ष बनाए जाने का स्वागत किया। पाकिस्तान के इस पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा- इस पद के लिए सौरव बिल्कुल सही शख्स है। भारतीय क्रिकेट को वो नई ऊंचाईयों पर ले जाएगा। पूर्व विकेटकीपर राशिद लतीफ के साथ एक यूट्यूब वीडियो में चर्चा के दौरान शोएब ने यह बातें कहीं। अख्तर ने कहा- लोग कहते हैं कि सौरव मेरे सामने बल्लेबाजी करने से डरता था। ये सही नहीं है। वो मुझसे कभी नहीं डरा। अगर ऐसा होता तो वो ओपनिंग नहीं करता। सौरव के बतौर बीसीसीआई अध्यक्ष निर्विरोध निर्वाचन की घोषणा 23 अक्टूबर को की जाएगी।

रावलपिंडी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर शोएब ने कहा, “साल 2000 तक टीम इंडिया दबकर खेलती थी। सौरव ने इस टीम को लड़कर जीतना सिखाया। वो युवराज, हरभजन, जहीर और नेहरा जैसे प्लेयर्स को लाया। सही मायनों में वो तेज गेंदबाजों का कप्तान था। अगर वो मेरा कप्तान होता तो टेस्ट क्रिकेट में मेरे 500 विकेट होते। बल्लेबाजी के दौरान मैंने उसे कई बार हिट किया। इसलिए कुछ लोग कहते थे कि वो मुझसे डरता था। ये सही नहीं है। अगर दादा डरता होता तो मेरे सामने ओपनिंग करने नहीं आता।”

शोएब ने दिलचस्प वाकये का जिक्र
शोएब आईपीएल के शुरुआती संस्करणों में कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए खेल चुके हैं। तब कप्तान गांगुली थे। शोएब ने कहा, “पीसीबी ने मुझ पर बैन लगाया था। गांगुली ने मेरे खेलने का इंतजाम किया। भारत पहुंचा तो केकेआर के ऑस्ट्रेलियन कोच ने मुझे अनफिट बताते हुए 11 में शामिल करने से इनकार कर दिया। दादा भी अड़ गया। उसने कहा- शोएब 50 फीसदी भी फिट होगा तो मैं उसे खिलाउंगा। यही हुआ भी। हमारी टीम 132 पर आउट हो गई। मैंने विपक्षी टीम के शुरुआती 4 विकेट लिए। हम मैच जीत गए।”

‘अब आईसीसी चीफ बनें’
इसी शो में राशिद लतीफ ने भी सौरव की तारीफ की। उन्होंने कहा, “दादा, के पास जो नेतृत्व क्षमता है। उसका भारतीय क्रिकेट को बहुत फायदा होने वाला है। वो कप्तान रहा, बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन का चीफ रहा, अब बीसीसीआई संभालेगा। लेकिन, मैं चाहता हूं कि भारत का आईसीसी में जो रुतबा है, उसके हिसाब से सौरव को आईसीसी प्रेसिडेंट बनना चाहिए।” हालांकि, राशिद की इस बात से शोएब इत्तेफाक नहीं रखते। उन्होंने कहा- दादा, बीसीसीआई छोड़कर आईसीसी कभी नहीं जाएगा।

महाराष्ट्र चुनाव: नारायण राणे के कारण दो जिलों में आमने-सामने हैं शिवसेना-भाजपा

Previous article

नाबालिग लड़कियों के लापता होने के मामले में इंदौर सबसे आगे, भोपाल दूसरा

Next article

You may also like

More in National

Comments

Comments are closed.