पूर्व क्रिकेटर यशपाल शर्मा का हार्ट अटैक से निधन, 1983 वर्ल्ड कप की विजेता टीम के थे सदस्य

भारत के पूर्व क्रिकेटर यशपाल शर्मा (Former Indian Crickter Yashpal Sharma) का निधन हो गया है. वे 66 साल के थे. यशपाल शर्मा 1983 में वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम (1983 World Cup Winning Team) के सदस्य थे.

11 अगस्त, 1954 को पंजाब के लुधियाना में जन्में यशपाल शर्मा ने भारत के लिए 37 टेस्ट और 42 वनडे खेले. पाकिस्तान के सियालकोट में 1978 में खेले गए वन डे मुक़ाबले से क्रिकेट करियर की शुरुआत करने वाले यशपाल शर्मा ने टेस्ट मैचों में भारत के लिए 59 पारियों में 1606 रन बनाए. टेस्ट मैचों में उनका सर्वोच्च स्कोर 140 रहा. इस दौरान उन्होंने 2 शतक और 9 अर्धशतक भी लगाए. वहीं वनडे करियर की बात करें तो उन्होंने 40 पारियों में 28.48 की औसत से कुल 883 रन बनाए. इसमें 89 उनका सर्वोच्च स्कोर रहा. साथ ही उन्होंने 4 अर्धशतक भी जड़े थे.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद उन्होंने कुछ समय तक अंपायरिंग भी की और चयनकर्ता की ज़िम्मेदारी भी संभाली. यशपाल ने भारत के लिए टेस्ट डेब्यू 1979 में इंग्लैंड के खिलाफ किया था. यह मुक़ाबला 2 अगस्त 1979 को लॉर्ड्स में खेला गया था.

भारतीय क्रिकेट टीम ने जब कपिल देव (Kapil Dev) की कप्तानी में पहली बार 1983 में वर्ल्ड कप जीता था, तो यशपाल शर्मा उस टीम के सदस्य थे. भारत की विश्व कप जीत में उनकी भूमिका भी अहम रही थी. इस टूर्नामेंट में वेस्टइंडीज (West Indies) के खिलाफ पहले ही मैच में उन्होंने 89 रनों की पारी खेली थी और प्लेयर ऑफ द मैच रहे थे. इस मैच में भारत को 34 रनों से जीत मिली.

वहीं सेमीफाइनल मुक़ाबले में भी उन्होंने इंग्लैंड (England) के खिलाफ 61 रनों की पारी खेली थी और भारत की तरफ़ से सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे थे.

यशपाल शर्मा के आकस्मिक निधन से क्रिकेट जगत में शोक की लहर व्याप्त है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री, वीरेंद्र सहवाग, व्यंकटेश प्रसाद, महिला क्रिकेटर पूनम राउत, मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने उन्हें श्रधांजलि अर्पित की है।सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट करते हुए कहा कि भारतीय क्रिकेट में उनके योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा।


Close Bitnami banner
Bitnami