एमपी जबीर ने रचा इतिहास, ओलंपिक में 400 मीटर बाधा दौड़ में हिस्सा लेगा ये खिलाड़ी, इंडियन नेवी से है ख़ास रिश्ता

भारतीय नौसेना के अनुभवी धावक एमपी जबीर ने पटियाला में हाल ही में सम्पन्न हुई इंटर-स्टेट राष्ट्रीय एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 400 मीटर बाधा दौड़ में स्वर्ण पदक जीतकर टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई किया है. उन्होंने 49.78 सेकंड का समय लेते हुए इस बाधा दौड़ में स्वर्ण पदक जीता. यह पहला मौक़ा होगा जब कोई भारतीय पुरुष खिलाड़ी ओलंपिक में 400 मीटर बाधा दौड़ में हिस्सा लेगा.

विश्व एथलेटिक्स की ‘रोड टू टोक्यो’ रैंकिंग में 34वें स्थान पर है जबकि इस प्रतिस्पर्धा में कुल 40 खिलाड़ी क्वालिफाई करेंगे. आपको बता दें कि भारत की तरफ़ से साल 1984 में पी टी उषा ने लॉस एंजिलिस में आयोजित ओलंपिक में 400 मीटर बाधा दौड़ में हिस्सा लिया था हालाँकि वे कांस्य पदक से चूक गईं थी.

ग़ौरतलब है कि केरल के मलप्पुरम के रहने वाले जबीर नौसेना में नाविक है. उन्होंने नौसेना भारतीय नौसेना और सेवाओं का प्रतिनिधित्व करते हुए कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक चैंपियनशिप में हिस्सा लिया है और ढेरों पुरस्कार जीते हैं.

कोविड-19 (Covid-19) महामारी के कारण लगे प्रतिबंधों के चलते प्रमुख टूर्नामेंटों के स्थगित होने और टलने से जबीर की आखिरी प्रतिस्पर्धी दौड़ 2019 में थी. हालांकि, नौसेना प्रशिक्षण टीम के नियमित अभ्यास और समर्थन के साथ जबीर किसी भी चोट से बचने के लिए अपने प्रशिक्षण सत्र को जारी रखने में सक्षम रहे और ओलंपिक की तैयारियों में जुटे रहे.


Close Bitnami banner
Bitnami