ख़त्म हुई भाजपा और महबूबा की मोहब्बत,लगा राष्ट्रपति शासन

जम्मू एंड काश्मीर में पीडीपी की सरकार गिर गई है. भाजपा के समर्थन से चल रही मुफ़्ती की सरकार से भाजपा ने अपना समर्थन वापस ले लिया है. भाजपा ने ये निर्णय सरकार में शामिल मंत्री और राज्य के नेताओं के साथ हुई बैठक के बाद लिया है.आज भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने दिल्ली में कश्मीर सरकार में भाजपा कोटे के मंत्री और राज्य के नेताओं की आपात बैठक बुलाई थी.बैठक के बाद सरकार से अपना समर्थन वापस लेने का निर्णय लिया गया है.समर्थन वापस लेने के बाद भाजपा ने जम्मू और कश्मीर राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है.बताया जा रहा है कि आज शाम तक मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती अपना इस्तीफा सौपेंगी. वही राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल ने भी अमित शाह से मुलाक़ात की है.

बता दे की पिछले कई दिनों से पीडीपी और बीजेपी के बीच जम्मू एंड कश्मीर में सीजफायर जैसे तमाम मुद्दों पर मतभेद था.बताया जा रहा है इन्ही मतभेदों की वजह से भाजपा ने सरकार से अपना समर्थन वापस लिया है.

बीजेपी के महासचिव और जम्मू-कश्मीर के प्रभारी राम माधव ने कहा- हम खंडित जनादेश में साथ आए थे. लेकिन इस मौजूदा समय के आकलन के बाद इस सरकार को चलाना मुश्किल हो गया था. महबूबा हालात संभालने में नाकाम साबित हुईं.हम एक एजेंडे के तहत सरकार बनाई थी. केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर सरकार की हर संभव मदद की.


Close Bitnami banner
Bitnami