PoliticsTop Stories

इनके आने की खबर से डर गए हैं प्रधानमंत्री मोदी और देवेंद्र फडणवीस,12 मार्च को है बड़ा इम्तिहान

0

महाराष्ट्र की राजनीति में अंदरखाने इतना कुछ चल रहा है कि खुद मुख्यमंत्री भी मुश्किल में हैं। लेकिन वो बोले तो किसे बोलें, पार्टी के नेता उनकी कुर्सी छीनने के लिए पूरी ताक़त लगाए हुए हैं। तो सहयोगी शिवसेना को वो फूटी नज़र नहीं सुहा रहे हैं। जिन ग्रामीण इलाकों के वोट पर सवार होकर देवेंद्र फडणवीस नागपुर से मुंबई विधानभवन पहुंचे थे। अब उसी विधान भवन के अंदर वो घिरते दिखाई दे रहे हैं। चार साल में महाराष्ट्र सरकार ने किसानों के लिए वादे तो कई किये लेकिन पूरा नहीं कर पाए हैं।

नतीजा अब सामने है, राज्य भर के किसान अपनी मांगों को लेकर पैदल चलकर मुंबई पहुँच रहे हैं। उनका ये काफिला तो मुंबई से सटे ठाणे में पहुँच भी चूका है और किसी वक़्त भी लाखों कि संख्या में वो मुंबई में दाखिल हो जाएंगे। ये किसान 180 किलोमीटर चलकर अपनी मांगों के लिए मुंबई पहुँच रहे हैं। उनकी मांगो में अहम् है कर्जमाफी जो सरकार में वादा किया था। ऑल इंडिया किसान सभा (एआईकेएस) के बैनर तले महाराष्ट्र के किसान समूह कर्जमाफी की मांग को लेकर लंबे दिनों से आंदोलन पर है।

 

नाशिक जिले से लाखों किसान चुनाव में केंद्र और राज्य सरकार की तरफ से किए गए वादे को ध्यान दिलाने के लिए प्रदर्शन करेंगे। जंगलों में आदिवासी किसानों का कब्ज़ा, किसान कर्ज मुक्त ,किसानों के फसलों का उचित दाम ,स्वाभिमान आयोग की स्थापना ,सिंचाई की व्यवस्था और आपदा में नुक्सान भरपाई जैसे तमाम मुद्दों पर सरकार को घेरेंगे। 12 मार्च नाशिक के लाखों किसान नाशिक से लॉन्ग मार्च कर महाराष्ट्र विधानसभा का घेराव करेंगे।

 

प्‍यारेलाल वड़ाली का निधन, टूटी वडाली ब्रदर्स की जोड़ी

Previous article

लीलावती अस्पताल में भर्ती पतंगराव कदम से मिलने पहुंची सोनिया गाँधी

Next article

Comments

Comments are closed.

Close Bitnami banner
Bitnami