Maharashtra/GoaTop Stories

प्रधानमंत्री ने जिस किसान के साथ की ‘चाय पे चर्चा’ उस किसान ने क़र्ज़ में दबकर की ख़ुदकुशी

0
BJP's prime ministerial candidate and Chief Minister Narendra Modi is interacting with common men as part of his "Chai Pe Charcha" programme from a tea stall, opposite to Karnavati Club on SG Highway in Ahmedabad on Wednesday. Express Photo by Javed Raja. 12.02.2014.

ये केंद्र और राज्य सरकार दोनों के लिए शर्मसार करने वाली खबर है। किसानों की बात करते हुए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र के जिस किसान के साथ चाय पे चर्चा की थी। क़र्ज़ के बोझ तले दबकर उस किसान ने ख़ुदकुशी कर ली है। महाराष्ट्र विधान सभा में विपक्ष ने ये मुद्दा जमकर उठाया और सरकार के लिए खूब किरकिरी हुई।

जानकारी के मुताबिक़ यवतमाल के 27 वर्षीय किसान कैलास किसन मानकर के साथ प्रधानमंत्री ने चाय पे चर्चा करते हुए ये भरोसा दिलाया था की उनकी सरकार किसानों की क़र्ज़ माफ़ी के लिए जल्द ही कुछ करेगी। लेकिन कैलास पर क़र्ज़ का बोझ बढ़ता गया और हारकर उसने यवतमाल के दभड़ी गाँव में अपने ही घर पर ख़ुदकुशी कर ली। किसान घर के इकलौत कमाने वाला था । और वो अपनी तीन एकड़ ज़मीन पर खेती कर अपना और अपने परिवार का पेट पालता था। लेकिन खेती खराब होती चली गयी और क़र्ज़ बढ़ता गया। तो वहीँ बैंक और साहूकारों का दबाव भी बढ़ता जा रहा था। इन्ही सब वजहों से परेशान होकर उसने खेती में इस्तेमाल होने वाले केमिकल को पीकर अपनी ज़िन्दगी ख़त्म कर ली।

यवतमाल का दभड़ी गांव तब चर्चा में आया था जब साल 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान नरेंद्र मोदी ने ‘चाय पर चर्चा’ की थी। उस वक़्त उन्होंने वादा किया था की उनकी सरकार बनते ही किसानों को हर संभव मदद की जाएगी। चुनाव भी ख़त्म हो गया और सरकार भी बन गयी लेकिन उस गांव में लौटकर न तो प्रधानमंत्री आये और न ही उनके कोई मंत्री। हाँ इतना ज़रूर हुआ है की दभड़ी गांव में अब तक क़र्ज़ के बोझ तले दबकर 17 किसान ख़ुदकुशी ज़रूर कर चुके हैं।

Video : मुंबई में एलपीजी गैस से भरा टैंकर पलटा

Previous article

कोल्हापुर में शिक्षक के पनिशमेंट से बिगड़ी छात्रा की तबियत

Next article

Comments

Comments are closed.

Close Bitnami banner
Bitnami